Main Bharatvashi Kahlata Hun

0
Main Bharatvashi Kahlata Hun

Mera desh h Bharat
Main Bharat ka rahnevala hun
Isiliye main bharatvashi kahlata hun
Yaha ke itihas ko dekho ai duniyavalon
Yaha ka itihas kitna purana h
Kabhi angrejon ne shasan kiya yahan
Kabhi matribhumi ko aazadi dilai jahan ke viron ne
Vaha ka m

आजाद तेरी आजादी

0
आजाद तेरी आजादी

भारत मां के अमर पुत्र "चन्द्रशेखर आजाद" की पुण्य तिथि पर मेरी एक तुच्छ सी रचना l
रचना का भाव समझने

Kaisa Ye Desh Aazad Hua

0
15 -Aug-2016 Manoj Pandey 15 August Poem 0 Comments  348 Views
Kaisa Ye Desh Aazad Hua

जिस देश में गंगा बहती है,उस देश का पौधा सूखा
क्यों।
जो देश है सोने की चिड़िया,उस देश का बच्चा
भूखा

Jan Gan Ka Sandesh

0
Jan Gan Ka Sandesh

डरा रही नर-नार को, बन्दूकों की छाँव।
नहीं सुरक्षित अब रहे, सीमाओं पर गाँव।।
--
देख दुर्दशा गाँव क

Swatantrata Ka Naara Hai Bekaar

0
Swatantrata Ka Naara Hai Bekaar

जिस उपवन में पढ़े-लिखे हों रोजी को लाचार।
उस कानन में स्वतन्त्रता का नारा है बेकार।।

जिनके बंग

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.