Bachhada Aur Gaiya

0
Bachhada Aur Gaiya

बालकविता "बछड़ा और गइया" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

सड़क किनारे जो भी पाया,
पेट उसी से यह भरत

मेंढक

0
16 -Nov-2016 Suresh Chandra Sarwahara Animals Poem 0 Comments  135 Views
मेंढक

मेंढक
____________
पानी बरसा बड़े जोर से
पूरी भरी तलाई ,
लगे निकलने बिल से मेंढक
मन म

Motu chuha deeng marata

0
Motu chuha deeng marata

Motu Chuha kunaba leker,
Rahata tha ek bil men.
Subah sham billi ka der tha ,
Un chuhon ke dil men.

Lekin kab tak ghut ker jite,
Chuhe apani bil men.
Kabhi kabhar dhamal tha machata,
Chuhon ki mahafil men.

Motu chuha deeng marata,
Baten

ए हिंद देश के लोगो सुन लो मेरी दर्द कहनी - गौ माता कि करूण पुकार

0
ए हिंद देश के लोगो सुन लो मेरी दर्द कहनी - गौ माता कि करूण पुकार

ए हिंद देश के लोगों, सुन लो मेरी दर्द कहानी।
क्यों दया धर्म विसराया, क्यों दुनिया हुई वीरानी।


Fisla Pair Gira Haathi

0
Fisla Pair Gira Haathi

हाथी आया, हाथी आया.
सब बच्चों ने शोर मचाया.

उसे लगी थी भारी प्यास.
पहुँच गया कूँए के पास.

फिसला प

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.