अनमोल कृति है मोर

1
अनमोल  कृति  है  मोर

सुन्दर - सुन्दर प्यारा मोर
रहता है जंगल और बगीचों में
वर्षा ऋतु में पूरे पंखो को
फैलाकर कर

Chidiya raani

1
Chidiya raani

चिड़िया रानी ,चिड़िया रानी
मेरी प्यारी चिड़िया रानी
सूरज निकलते तुम आ जाती
मेरे घर आँगन को चह

Kahan chhipi Ja Kar Gaurya

1
Kahan chhipi Ja Kar Gaurya

कहाँ छिपी जाकर गौरय्या |
+++++++++++++++

आती याद मुझे गौरय्या | कहाँ छिपी जाकर गौरय्या ||

मेरे आँगन

Chidiya ki Soch

0
Chidiya ki Soch

Ik basti mein aag lagi thi
chahun or ha ha kar machi thi
yah sab dekh nanhi chidiya
ka dil bhar aya !
khole pankh usne aur
saahas jutaya
paas ke talaab se
chonch bhar jal laya
yah kram usne
bar bar duharaya
chidiya ko dekh
ped par ba

चिड़िया

0
चिड़िया

चिड़िया (बाल कविता)
____________________
चिड़िया रानी एक बनाओ
मेरे घर में घोंसला ,
तुम हो तो रहता

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.