Kahan chhipi Ja Kar Gaurya

1
Kahan chhipi Ja Kar Gaurya

कहाँ छिपी जाकर गौरय्या |
+++++++++++++++

आती याद मुझे गौरय्या | कहाँ छिपी जाकर गौरय्या ||

मेरे आँगन

Chidiya ki Soch

0
Chidiya ki Soch

Ik basti mein aag lagi thi
chahun or ha ha kar machi thi
yah sab dekh nanhi chidiya
ka dil bhar aya !
khole pankh usne aur
saahas jutaya
paas ke talaab se
chonch bhar jal laya
yah kram usne
bar bar duharaya
chidiya ko dekh
ped par ba

चिड़िया

0
चिड़िया

चिड़िया (बाल कविता)
____________________
चिड़िया रानी एक बनाओ
मेरे घर में घोंसला ,
तुम हो तो रहता

कुकड़ूँ कूँ

1
कुकड़ूँ कूँ

कुकड़ूँ कूँ
______________
लगा फूटने उजियारा तो
मुर्गा बोला कुकड़ूँ कूँ ,
कहता भोर हुई अब जागो

घोंसला

0
घोंसला

घोंसला (बाल कविता)

तिनका तिनका लाकर चिड़िया
बना रही शाखों पर घर,
कल इसमें चहकेगा जीवन
तब होगा

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.