NATKHAT BACHPAN

0
06 -Sep-2017 RAMESH BISHT Childhood Poems 0 Comments  112 Views
NATKHAT BACHPAN

NATKHAT BACHPAN

Main Omi main hoon Bachpan
Naachu mei bas cham chamm chamm chamm

Dekh paani Karun Chappp Chappp
Sharaaten din bhar mujhe sujati

Maa Meri bas mujhe Dhundti
Kabhi Iss kone Kabhi Uss Kone Mei Chup Jaata

Pankh Laagay

मम्मी पापा और बचपन

1
23 -Jun-2017 Kamlesh Sanjida Childhood Poems 0 Comments  800 Views
मम्मी पापा और बचपन

काश मुझे ये बचपन ,
फिर से मिल जायें
और जीवन का ,
ये मतलब समझ में आ जायें ।

अपने पराये से,
चलो कुछ द

माँ !

0
14 -Jun-2017 Gianchandsharma Childhood Poems 0 Comments  209 Views
माँ !

अब
देर से घर नही आऊंगा मैं
वर्ना
दरवाजा खोलेगा कौन?
वो
माँ ही थी
जो
दरवाजा खोलती थी
और
सारा

जादूगर

0
30 -Apr-2017 Jaijairam Anand Childhood Poems 0 Comments  287 Views
जादूगर

जादूगर
जादूगर आया भोपाल
सब भोपाली हुए निहाल
देखो भैया उमड़ी भीड़
पंछी छोड़ चले ज्यों नीड़सुम

Bachpan ki Yadein

0
05 -Apr-2017 Anju Goyal Childhood Poems 0 Comments  810 Views
Bachpan ki Yadein

बचपन की हसीन यादें
होती है बहुत ही खास
मीठी अनुभूति होती है
जब करती हूँ आभास
कितना गजब खेल

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017