Diwali khushiyon ka tyohar hai

1
30 -Oct-2012 shivani dubey Diwali Poem 0 Comments  2,991 Views
Diwali khushiyon ka tyohar hai

diwali khusiyo ka tyohar hai.....
har ghar me khusiyo ke deep jagmagte hai...
phir kyu uski aankho me gamo ke aansu timtimate hai....
chalo aaj unke aansu ponch unhe bhi hasate hai...
unki khusiyo ka kaaran ban..
diwali khusiyo se manate hai...

diwali khusiyo ka tyohar hai......

sara sehar roshani se jagmagata hai...
phir kyu uski kotiya me andhera nazar aata hai....
chalo aaj ek deep unki kotiya me jalaye....
unki khusiyo ka kaaran ban
diwali khusiyo se manaye....

diwali khusiyo ka tyohar hai

risto ke mele lage hai...
milne milane ke rele lage hai..
phir kyu vo akele khade hai..
chalo aaj unse bhi mil kar aate hai...
unki khusiyo ka kaaran ban...
diwali khusiyo se manate hai..

diwali khusiyo ka tyohar hai....

fatako ki gunj se zaara zaara gunj raha hai...
phir kyu unki kotiya me sannaata bikhra pada hai...
chalo aaj fatako ka luft unse bhi uth wate hai...
chakri ko unke aagan me fod kate hai..
anar se unke dwar ki ronak badate hai..
unki khusiyo ka kaaran ban....
diwali khusiyo se manate hai....

diwali khusiyo ka tyohar hai

ladoo jalebi rasmalai humne hai bahut khai...
vo dekh kar hume dur se lalchate hai...
chakhne ko tarsate hai aankho se aansu barsate hai...
chalo aaj ladoo ka swad unhe bhi chakhate
rasmalai se unka swad aur bhi badate hai...
unki khusiyo ka kaaran ban....
diwali khusiyo se manate hai...

diwali khusiyo ka tyohar hai

rang virange paridhano se hum sajte hai...
vo fate labade me khud ko dekh tadpte hai...
chalo aaj apne kapdo se unke tan ko dakhte hai...
unki khusiyo ka kaaran ban
diwali khusiyo se manate hai...

diwali khusiyo ka tyohar hai

na koi parichey hai tera mera
mein anath hu na duniya me koi mera ...
phir kyu mere aagan me deep jalata hai...
kyu mere tan ko aapne kapdo se dakhna chahta hai..
kyu mujhse milne ko aata hai..
jab ki tera mera koi nata hai...
phir kyu mujhse apni khusiya baant na chahta hai ...

diwali khusiyo ka tyohar hai

tera mera koi to nata hai...
tujhe ram ne banaya mujhe bhi ram he banata hai...
insaan he insaan ke kaam aata hai...
yahi to insaaniyat ka farz kehlata hai....
diwali khusiyo ka tyohar hai..

khusiya baantne se badti hai ye hume sadiyo se sikhaya jata hai..
khusiyo ka lutf to baant kar he uthaya jata hai...
ram ayodhya loote khusi se khil uthe hirdya bade ho ya chote..
bhai se bhai ka milan hua tabhi to deepo ka chalan hua
bhai chare ka ehsaas diwali ...
bhai chare he hume sikhati diwali .....

diwali khusiyo ka tyohar hai

chalo aaj milkar deep jalate hai ....

khusiya sath milkar manate hai...
ek dusre ki khusi ka kaaran ban ...
diwali khusiyo se manate hai...
yahi tyohar to hai jo hume sath le aata hai....
khusiyo ko sath milkar manane ka mauka de jate hai....
diwali ki apni alag he bahar hai....
diwali khusiyo ka tyohar

ek dusre ki khusiyo ka kaaran ban diwali khusiyo se manate hai....


दिवाली खुशियों का त्यौहार है

दिवाली खुशियों का त्यौहार है.....
हर घर में खुशियों के दीप जगमगाते hain...
फिर क्यूँ उसकी आँखों में ग़मों के आंसू टिमटिमाते हैं....
चलो आज उनके आंसू पोंछ उन्हें भी हँसाते है...
उनकी खुशियों का कारण बन..
दिवाली खुशियों से मनाते हैं...

दिवाली खुशियों का त्यौहार है ......

सारा शहर रोशनी से जगमगाता है...
फिर क्यूँ उसकी कुटिया में अँधेरा नज़र आता है....
चलो आज एक दीप उनकी कुटिया में जलायें....
उनकी खुशियों का कारण बन
दिवाली खुशियों से मनाये....

दिवाली खुशियों का त्यौहार है

रिश्तों के मेले लगे हैं...
मिलने मिलाने के रेले लगे हैं..
फिर क्यूँ वो अकेले खड़े है..
चलो आज उनसे भी मिल कर आते हैं...
उनकी खुशियों का कारण बन...
दिवाली खुशियों से मनाते हैं.

दिवाली खुशियों का त्यौहार है....

पटाखों की गूंज से ज़र्रा ज़र्रा गूंज रहा है...
फिर क्यूँ उनकी कुटिया में सन्नाटा बिखरा पड़ा है...
चलो आज पटाखों का लुफ्त उनसे भी उठवाते हैं...
चकरी को उनके आँगन में फोड़ते हैं..
अनार से उनके द्वार की रौनक बढ़ाते हैं..
उनकी खुशियों का कारण बन....
दिवाली खुशियों से मनाते हैं....

दिवाली खुशियों का त्यौहार है

लड्डू जलेबी रसमलाई हमने है बहुत खाई...
वो देख कर हमें दूर से ललचते हैं...
चखने को तरसते हैं आँखों से आंसू बरसते हैं...
चलो आज लड्डू का स्वाद उन्हें भी चखाते
रसमलाई से उनका स्वाद और भी बढ़ाते हैं...
उनकी खुशियों का कारण बन....
दिवाली खुशियों से मनाते हैं...

दिवाली खुशियों का त्यौहार है

रंग बिरंगे परिधानों से हम सजते हैं...
वो फटे लबादे में खुद को देख तड़पते हैं...
चलो आज अपने कपड़ों से उनके तन को ढकते हैं...
उनकी खुशियों का कारण बन
दिवाली खुशियों से मनाते हैं...

दिवाली खुशियों का त्यौहार है

न कोई परिचय है तेरा मेरा
में अनाथ हूँ न दुनिया में कोई मेरा ...
फिर क्यूँ मेरे आगन में दीप जलाता है...
क्यूँ मेरे तन को अपने कपड़ों से ढकना चाहता है..
क्यूँ मुझसे मिलने को आता है..
जब की तेरा मेरा कोई नाता नहीं है ...
फिर क्यूँ मुझसे अपनी खुशियाँ बाँट न चाहता है ...

दिवाली खुशियों का त्यौहार है

तेरा मेरा कोई तो नाता है ...
तुझे राम ने बनाया मुझे भी राम ही बनाता है...
इंसान ही इंसान के काम आता है...
यही तो इंसानियत का फ़र्ज़ कहलाता है....
दिवाली खुशियों का त्यौहार है..

खुशियाँ बांटने से बढती है ये हमे सदियों से सिखाया जाता है..
खुशियों का लुत्फ़ तो बाँट कर ही उठाया जाता है...
राम अयोध्या लौटे खुशी से खिल उठे हृदय बड़े हो या छोटे..
भाई से भाई का मिलन हुआ तभी तो दीपों का चलन हुआ
भाईचारे का एहसास दिवाली ...
भाईचारा ही हमें सिखाती दिवाली .....

दिवाली खुशियों का त्यौहार है

चलो आज मिलकर दीप जलाते हैं....

खुशियाँ साथ मिलकर मनाते हैं...
एक दूसरे की ख़ुशी का कारण बन...
दिवाली खुशियों से मनाते हैं...
यही त्यौहार तो है जो हमें साथ ले आता है....
खुशियों को साथ मिलकर मनाने का मौका दे जाते हैं....
दिवाली की अपनी अलग ही बहार है....
दिवाली खुशियों का त्यौहार


एक दूसरे की खुशियों का कारण बन दिवाली खुशियों से मनाते हैं....



Please Login to rate it.


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.