तेरा ही ख्वाब हूँ मैं

0
03 -Sep-2017 Jyoti Dream Poems 0 Comments  93 Views
तेरा  ही ख्वाब हूँ  मैं

तेरे प्यार की एक
मिसाल हूँ मैं
तेरा ही ख्वाब हूँ मैं
कभी देख अपने
दिल के आईने मैं
मैं ही

क्या ये सच है

0
30 -Aug-2017 shibu Dream Poems 0 Comments  41 Views
क्या ये सच है

क्या ये सच है
सपने में मैंने भी उडान भरी थी
जागती आँखों से
खुद को आसमान में
उड़ते पाया था
क्या य

Ek sapna

0
03 -May-2017 Suri Dream Poems 0 Comments  177 Views
Ek sapna

D poem which published yesterday in Nav-Bharat in Nagpur--
Raat ko mujhe ek spna aayaa,
Spne me koi apna aaya..

Naam tha uska sweet,
Dekh k usko dil ka mera badh gya heart beat..

Kaise usko mai smjhau
Wo hai meri pehli mohabbat,
Jiske abo

सपने

0
28 -Apr-2017 Anju Goyal Dream Poems 0 Comments  164 Views
सपने

  जो जीने का मकसद  बन  जाएँ
  दिल  के  अरमान  जगाएँ
  वे   होते  है  सपने ....
  
  जागी  आँखों में  घर कर

मेरे सपने

0
04 -Mar-2017 Rakhi Sinha Dream Poems 0 Comments  176 Views
मेरे सपने

पीछले कुछ दिनों से नहीं आ रहे थे सपने,
सबके सपनों की बात लगी थी खटकने।
सोचा आज सपने देख कर छोड़ूँग

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017