Pyari si Subah ko Kuchh Khas Banayein

0
17 -Dec-2016 pravin tiwari Good Morning Poem 0 Comments  166 Views
Pyari si Subah ko Kuchh Khas Banayein

Doston aaj is pyari si subah ko kuchh khaas banaayein
jo ruthe hain hum se unhen ham aaj manayein
har rishte ko bade pyar se sanjoye
mayusi ko ham door bhagaayen
har chehare par ham muskaan le aayein
zindagi di hai hamen jo ishvar ne
us jindagi

मीठी सी सुबह

0
17 -Oct-2016 Jyoti Good Morning Poem 0 Comments  505 Views
मीठी  सी   सुबह

इस मीठी सी सुबह को
हम क्या नाम दे
ए दिल ! तू ही बता


बारिश की फुहारों में भीगते लोग
कुछ

Suraj Bhaiya

0
Suraj Bhaiya

अम्मा बोली सूरज भैया, जल्दी से उठ जाओ।
धरती के सब लोग सो रहे ,जाकर उन्हें उठाओ।।

मुर्गे थककर हार

Dekho Upwan Jhoom Raha Hai

0
Dekho Upwan Jhoom Raha Hai

देखो उपवन झूम रहा है ,
डाली डाली घूम रहा है।
साँझ, सवेरे ,बच्चे -बूढ़ों ,
के सपनों को चूम रहा है ।
दे

सुबह

0
सुबह

तम के आगोश में वो
सुर्ख़ गोला आग का

चल सवेरा होगया
अब वक्त है कुछ त्याग का

त्याग दो आलस्य अब तु

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.