पी के भंग का प्याला

0
13 -Mar-2017 Mahesh Nagar Holi Poems 0 Comments  117 Views
पी के भंग का प्याला

पी के भंग का प्याला
हो गया मैं मतवाला,
जग घूमता है सारा
हो गया मैं मतवाला,
रंग लाल हो या पीला
बसं

फागुन आया

0
12 -Mar-2017 Jyoti Holi Poems 0 Comments  122 Views
फागुन  आया

रंग - बिरंगे रंगों से
सज गयी दुकाने है
मौसम भी हो गया गुलाबी है
फागुन आया - फागुन आया
होली

होली के अलबेले रंग। HOLI KE ALBELE RANG.

0
11 -Mar-2017 satya saroj Holi Poems 1 Comments  280 Views
होली के अलबेले रंग।  HOLI KE ALBELE RANG.

होली के अलबेले रंग
****************
आई होली लाई होली,
अपने संग लाखों उमंग,
दिलों में भरने ले कर आई,
अपने सं

आई रे होली....

0
05 -Mar-2017 Piyush Raj Holi Poems 0 Comments  522 Views
आई रे होली....

आई रे होली ...

देखो रे देखो आई रे होली
रंगों में डूबी है यारों की टोली
लगा रहे सब एक-दूजे को रंग
भा

अभी तो होली आई नहीं

0
02 -Mar-2017 anuj bhargava Holi Poems 1 Comments  326 Views
अभी तो होली आई नहीं

अभी तो होली आई नहीं
मस्त अंगड़ाई छाई नहीं
हाँ महक महकाने लगी
कौन कौन रंगों के बौछार
ओस की बूं

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view and vote contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017