जब से हुआ है तुमसे प्यार ओ कन्हैया

0
जब से हुआ है तुमसे प्यार ओ कन्हैया

जबसे हुआ है तुमसे प्यार ओ कन्हैया
तब से कठिन भई हमरी उमरिया
कितने जतन करु तुमसे मिलन के खातिर

लौट आओ कान्हा

1
लौट आओ कान्हा

लौट आओ कान्हा
--------–------------
लौट आओ कान्हा
उठा लो गोवर्धन
सृष्टि डूबी जाती है!

गली कूचों में चीरहर

Tu rehna sath hamesha

1
Tu rehna sath hamesha

he bhagwan tu rehna sath hamesha;
har yug me tu aata hai;
kabhi ram to kabhi krishna bankar ;
tu raha sath hamesha;
har muskil se tu hame bachata hai;
mahabharat me tune hame dharm sikhaya;
dharm ka sahi arth tune hame batya;
tere bharose ham

Krishna Janamashtmi

1
Krishna Janamashtmi

मनहरण घनाक्षरी


खिली-खिली बगिया है यमुना के तट पर;
बोले राधा कान्हा प्यारे दरस दिखाओ रे।।१

गो

कृष्ण जन्माष्टमी

0
कृष्ण जन्माष्टमी

Happy krishna janmastmi...
घनघोर बादल घिरे हुए थे,
चारों ओर अँधियारा था,
भाद्रपक्ष की अष्टमी थी,
जन्म कृष्ण का ह

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.