Soch

0
Soch

Ab haal e dil kya batau aye khuda .....khuch khali khali sa lagta h ....logo k chere pr muskurahte lata hu ...pr andar khuch gum sa lagta h ....ishq nahi vajah.. vajha khuch or h ...mujhe sab ek dikhava sa lagta h ...duniya m khuch to aisa hoga jis

Life is a matter of choices

0
Life is a matter of choices

Life is a matter of choices..
जिंदगी है एक कोरा कागज,
हमें रंगों से इसको भरना है।
निर्भर करता है ये हम पर,
काले और स

ज़िन्दगी की अज़ीब कहानी.....

0
ज़िन्दगी की अज़ीब कहानी.....

ज़िन्दगी क्यों हमे मिली है ,
जीने के लिए या मरने के लिए मिली है।
क्यों इसे हम समज नहीं पाते ,
क्यो

दिल के जख्म

1
दिल के जख्म

जहांन भर के दर्द आ कर ज़हन में ठहरें है
भरते ही नही दिल के जख्म इतने गहरें है

दोस्त है के दुश्मन य

काश !

2
काश !

काश!

ममता भारद्वाज "मधु"द्वारा रचित

काश! वृक्ष ऐसा एक होता ,
घर-घर जिससे पैसा होता |

न रहते कही

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.