रब की मेहर है जिन्दगी।

0
28 -Jul-2016 Astha gangwar Life Poem 0 Comments  32 Views
रब की मेहर है जिन्दगी।

भीङ में भी तन्हा थी मैं

खुद से ही कुछ खफा थी मैं

जिन्दगी से नाराज थी मैं

उङने को आसमानों में ब

Be Yourself

0
28 -Jul-2016 vimal madan Life Poem 0 Comments  13 Views
Be Yourself

There is nothing to learn
and nothing to be taught
to be yourself is
the most difficult task
the company we keep
it takes its color on
mind keeps thinking
right and wrong
true and false
tries to appear grand
in the eyes of all
the other

AAJADI KE PANKH

0
27 -Jul-2016 RajAnkt Life Poem 1 Comments  63 Views
AAJADI KE PANKH

Khule aashma me aajadi ke pankh
Farfara lene do mujhko
Kathputli bane mahino beet gaye
Ab to mila hai khula aakash
Ur lene do mujhko
Khule aashma me aajadi ke pankh
Farfara lene do mujhko
Pero ke jhunjhune sun lene do mujhko
Sahas ka harek pa

जिंदगी की राह में ........@

0
जिंदगी की राह में ........@

जिंदगी की राह में करवट बदल रहे हैं |
आज जीने की चाहत लिए
दर-बदर भटक रहे हैं|
कहने को तो बडी़ हसी़

Uljhe Huye Sawaal

0
Uljhe Huye Sawaal

दोहे-उलझे हुए सवाल

बेमौसम की आँधियाँ, दिखा रही औकात।
कैसे डाली पर टिकें, मुरझाये से पात।।
--
झूम

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.