ज़िन्दगी एक नाम है....

0
07 -Aug-2017 Aakash Parmar Life Poem 0 Comments  78 Views
ज़िन्दगी एक नाम है....

ज़िन्दगी एक नाम है,
मैं नाम कमाना चाहता हूं,
संघर्षमयी राहों पर,
अपने ईमान का परचम लहराना चाहता

मेरा स्वाभिमान

0
03 -Aug-2017 Shaurya Rajput Life Poem 0 Comments  49 Views
मेरा स्वाभिमान

!..मेरा स्वाभिमान..!

है नाम तेरा इस जहां में,
तो हम कौन से गुमनाम हुए हैं.
चाहत हो अगर
तुम किसी की,

दोपहरी उम्र की

0
27 -Jul-2017 Purushottam Kumar Sinha Life Poem 0 Comments  36 Views
दोपहरी उम्र की




आदमी के स्वार्थ बोलते हैं !

0
27 -Jul-2017 Vikram Gathania Life Poem 0 Comments  82 Views
आदमी के स्वार्थ बोलते हैं !

आदमी के स्वार्थ बोलते हैं

आदमी के स्वार्थ बोलते हैं
जैसे कि कभीकभी
आदमी के पुण्य बोलते हैं

जीवन सारांश...

0
जीवन सारांश...

जीवन सारांश...

मुझे सारा नहीं चाहिए
सारे का सारांश चाहिए।
जो कर्त्तव्य है
उसे करना चाहता हूं।

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017