Maa Saraswati Vandana

0
12 -Feb-2016 Rajesh Kumar Tiwari Basant Poem 0 Comments  357 Views
Rajesh Kumar Tiwari

अर्चना के पुष्प चरणों में समर्पित कर रहा हूँ ,
मन हृदय से स्वयं को हे मातु अर्पित कर रहा हूँ ,
मूढ़ हूँ मैं अति अकिंचन सोच को विस्तार दो ,
माफ़ कर मुझ पातकी को ज्ञान से तुम वार दो ,
लोभ स्वारथ दम्भ का अघ काट दो हे मातु तुम,
स्वच्छ निर्मल भाव की सौगात दो हे मातु तुम,
कर सकूँ आक्रमण तम पे कलम में वो धार दो ,
बस सकूँ बन प्रिय हृदय माँ शब्द का संसार दो ।
हो मेरा निर्मल चरित उज्जवल धवल तव वस्त्र सा ,
कर लेखनी को मातु वह आघात कर दे शस्त्र सा ,
तोड़ उर अंकुर तुरत माँ कलम के व्यापार का ,
पुत्र आकाँक्षी है माता बस तुम्हारे प्यार का ।
मैं स्वयं संग कुटुंब के तेरे गुण प्रवर्तित कर रहा हूँ ,
अर्चना के पुष्प चरणों में समर्पित कर रहा हूँ ,
मन हृदय से स्वयं को हे मातु अर्पित कर रहा हूँ ………………..।।

Maa Saraswati Vandana


Please Login to rate it.




How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.