Paana aur Khona

0
11 -Aug-2017 Ksheerja G Memories Poems 0 Comments  57 Views
Paana aur Khona

Khoya usse jaata hai jisse paaya ho
Aur paaya usse jaata hai jiski kimat Maloom ho
Jiski kimat Maloom hi na ho toh paana kya aur khona kya
Aur agar kimat Maloom ho toh usse khoneki jurrat kaha

Kisiko paane ke Kai saare matlab
Kabhi saath toh k

याद

0
18 -Jul-2017 pankaj taparia Memories Poems 0 Comments  0 Views
याद

हर गुजरती हुई रात,
उसकी याद दे जाती है,
रिम-झिम ये बरसात,
ख्वाब बेबुनियाद दे जाती है ।
तलब होती उस

उजड़े गाँव में

0
21 -May-2017 Suresh Chandra Sarwahara Memories Poems 0 Comments  70 Views
उजड़े गाँव में

उजड़े गाँव में
_______________
सूख गए
सब ताल तलैया
और
आँखों में बोए सपने,
घाट बाट
रूठे रूठे हैं
और

याद / Yaad

0
18 -Apr-2017 shalu L. Memories Poems 0 Comments  146 Views
याद / Yaad

याद
सुंदर है सब सुंदर है यह सृष्टि, नजर रहे तेरी वैसी ही यह सृष्टि।
पल चल कदम उठा कही, राह वहीँ चल

पगडंडियां

0
16 -Apr-2017 Gianchandsharma Memories Poems 0 Comments  63 Views
पगडंडियां

पगडंडियां
**********
कहाँ बची अब
पगडंडियां
जो कभी जोड़ती थी
आदमी को
आदमी से!
आदमी को
पनघट से !
आदमी क

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017