उजड़े गाँव में

0
21 -May-2017 Suresh Chandra Sarwahara Memories Poems 0 Comments  45 Views
उजड़े गाँव में

उजड़े गाँव में
_______________
सूख गए
सब ताल तलैया
और
आँखों में बोए सपने,
घाट बाट
रूठे रूठे हैं
और

याद / Yaad

0
18 -Apr-2017 shalu L. Memories Poems 0 Comments  110 Views
याद / Yaad

याद
सुंदर है सब सुंदर है यह सृष्टि, नजर रहे तेरी वैसी ही यह सृष्टि।
पल चल कदम उठा कही, राह वहीँ चल

पगडंडियां

0
16 -Apr-2017 Gianchandsharma Memories Poems 0 Comments  45 Views
पगडंडियां

पगडंडियां
**********
कहाँ बची अब
पगडंडियां
जो कभी जोड़ती थी
आदमी को
आदमी से!
आदमी को
पनघट से !
आदमी क

Bachpan ki yadein ..ek suhana safar

0
12 -Apr-2017 viki Memories Poems 0 Comments  45 Views
Bachpan ki yadein ..ek suhana safar

Chalo bachpan k yaado m zara ghum kar aate h .....
khuch bhul bichde kahaniya khud ko yaad dilate h.....
wo papa ke kandho pr ghumna ..or ma ka pyar se chumna ,is ahsas ko fir se jagate h...chalo bachpan k yaado m zara ghum kar aate h....
vo mitti

Kalam

0
06 -Feb-2017 Ankita Singh Memories Poems 2 Comments  99 Views
Kalam

कलम , तेरी मेरी दोस्ती है पिछले जमाने की ,

कसम है तुझे मेरे अफसाने की,

मरी वाणी की अंकिता जो तूने

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017