Mausam Nainital Ka

0
Mausam Nainital Ka

गरमी में ठण्डक पहुँचाता,
मौसम नैनीताल का!
मस्त नज़ारा मन बहलाता,
माल-रोड के माल का!!

नौका का आनन

Hawa

0
Hawa

हवा तुम कहाँ से आती हो
या यही आस पास रहती हो
मै तुम्हे देख नहीं पता और
तुम मिलकर चली जाती हो

तुम

Sheetal Mand Hawayein

0
Sheetal Mand Hawayein

दूर पहाड़ों से हैं आती
बारिश का संदेसा लाती
खट्टी मीठी बातें करती
झरनों का संगीत सुनाती
शीतल मं

प्रकृति

0
प्रकृति

प्रकृति

धीरज शर्मा द्वारा रचित

प्रकृति। धरा पर कुछ भी अपने लिए नहीं करती,
नदियाँ पहाड़ों से

Dharati ko swarg banayen

1
Dharati ko swarg banayen

Paryavaran bachayen,
Dharati ko swarg banayen.
Aao ped lagayen ,
Apana vishva bachayen.


Apani dharati itani sunder,
Vrikshh yahan laharate,
Jeevan palata age badhata,
Jeev jantu sukh pate,
Sabako sukh panhunchayen,
Dharati ko swarg bana

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.