धरती आकाश

0
धरती आकाश

समुन्दर की लहरें
बड़ी कैफियत से उठती हैं
अपनी मस्ती में
कि मार ही देंगी,
आसमान को टीप...
पर धरती

Suraj Bankar

0
29 -Jul-2016 Ghamandilal Agarwal Nature Poem 0 Comments  233 Views
Suraj Bankar

Suraj ek sitara hai,
Har praani ko pyara hai.

Isake kaaran hi bhai,
pade vastuyein dikhlaai.

Isaki kirane paate jab,
bhojan ped banaate tab.

Dharti ko garmi deta,
tan ki thithuran ko har leta.

Kosh Vitamin 'D' wala,
jo haddi ka rakhw

Mausam Nainital Ka

0
Mausam Nainital Ka

गरमी में ठण्डक पहुँचाता,
मौसम नैनीताल का!
मस्त नज़ारा मन बहलाता,
माल-रोड के माल का!!

नौका का आनन

Hawa

0
Hawa

हवा तुम कहाँ से आती हो
या यही आस पास रहती हो
मै तुम्हे देख नहीं पता और
तुम मिलकर चली जाती हो

तुम

Sheetal Mand Hawayein

0
Sheetal Mand Hawayein

दूर पहाड़ों से हैं आती
बारिश का संदेसा लाती
खट्टी मीठी बातें करती
झरनों का संगीत सुनाती
शीतल मं

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.