Vat-vriksh Ki Chhaya

1
Vat-vriksh Ki Chhaya

पौधे को अब नहीं चाहिए
वट-वृक्ष की छाया,
बड़े प्यार से पाला फिर भी
बेटा हुआ पराया ।

भूल गई मां खुद

Lo ! Dhal Gai Saanjh!!

0
Lo ! Dhal Gai Saanjh!!

शब्द निशब्द
खुशिया बाँझ
लो! ढल गयी
जीवन साँझ !
अटकी रह गयी
सांसों की डोर
पीछे छूटी
सुहानी भोर !

Budhapa

0
04 -Dec-2016 Abhijit Kumar Old People Poems 0 Comments  224 Views
Budhapa

yeh umer hui u thake hue the hum
dusro ke sahare base hue the hum
socha naa tha is kdr payenge khud ko
lachaar haddiyo me u kase hue the hum


yaad aa rahe the wo pal
jab apno ka sahara the hum
ab na chah ke bhi unki khushiyon
me badha the h

Sanam Tu Mera Rahe

0
Sanam Tu Mera Rahe

हर जनम् में सनम तू मेरा ही रहे
साथ तेरा बस मुझे गुदगुदाता रहे।

उमर कुछ भी रहे अब नही फर्क है
तुझ

Yaad Aayi Amma

1
Yaad Aayi Amma

बरसों बाद
अचानक फ़िर से
याद आईं अम्मा
बड़का लौटा रजधानी से
मुस्काईं अम्मा

पोता बहू
साथ आए हैं

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.