हमारा सरकारी तंत्र

0
हमारा सरकारी तंत्र

हमारा सरकारी तंत्र
लाख कोशिस कर ले कोई
या कर ले तंत्र -मंत्र
ना सुधरेंगे नेता जी
ना सुधरेगा सरक

Maal Uda Mallya

0
24 -Mar-2016 Rajesh Kumar Tiwari Politics Poem 0 Comments  252 Views
Maal Uda Mallya

माल उड़ा माल्या उड़े , सात समंदर पार ।
निकला साँप लकीर को,पीट रही सरकार ।।

कितने माल्या हैं पड़े , कर

मुल्क के हुक्मरां

0
11 -Mar-2016 Anwar Politics Poem 0 Comments  139 Views
मुल्क के हुक्मरां

आज तो मुमकिन नहीं कि ये दास्तान पूरी करूं ,
वक्त-ए-ज़रूरी हिदायात का फिर भी बताना है ज़रूरी

बाग-ए-

मुल्क के रखवाले

0
11 -Mar-2016 Anwar Politics Poem 0 Comments  124 Views
मुल्क के रखवाले

जाने कैसे पेशेवर हैं, तंजीम के रखवाले लोग ।
मरसिया पढ़ने लगे, गज़लें सुनाने वाले लोग।

रात की गुमन

Iss Daur ki Hakeekat !!

0
10 -Mar-2016 Md ASIM Politics Poem 0 Comments  571 Views
Iss Daur ki Hakeekat !!

Hakeekat ka gala ghonta gya hai
Hamare saath yahi dhokha hua hai.

Yahan hai kon apna ya paraya,
yeh barson baad andaza hua hai.

Udhar katil khushi se jhumta hai,
Dar maktul ye tufaan khada hai.

Fakat mujrim ko mujrim keh diya tha
bas itn

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.