Panap Raha Vyabhichaar

0
Panap Raha Vyabhichaar

हालत बदली कुछ नहीं, बीत रहे हैं साल।
रोज़ अनेकों दामिनी, हो जातीं बदहाल।।
--
कपड़े उजले हो भले, मै

Garibon Ka Parv - Chunaav

0
Garibon Ka Parv - Chunaav

रिक्शेवाले ने पूछा,चुनाव हर वर्ष क्योंनहीं आता है?
मैं बोला भाई चुनावों से,तुम्हें क्या लाभ होज

BHRASHTACHAR KA KAMAL 2017 BAHAL

0
07 -Jun-2016 Sunil Yadav Politics Poem 0 Comments  40 Views
BHRASHTACHAR KA KAMAL 2017 BAHAL

MANTRIYON KA NISHANA KUCHH IS TARAH KA HOGA KI,
GORIBO KI DO ROTI KI DOLAT PAR INKA SEEDHA NISHANA HOGA,
MANTRIYON KA MAHAL OR UNCHA HO JAAEGA,
OR GARIB DO ROTI KHAANE KO BHI TARAS JAAEGA,

BHIKHARI OR MANTRI ME SIRF ITNA ANTAR HOGA KI,
BHIKHAR

Gaddari Aur Khuddari

0
Gaddari Aur Khuddari

गद्दारी और खुद्दारी

घर में ही गद्दार बहुत हैं घर में आग लगाने को
राजनीति तैयार खडी है आतंकी पन

Mera Desh Badal Raha Hai

0
Mera Desh Badal Raha Hai

मेरा देश बदल रहा है और आगे बढ़ रहा है
इस सरकारी नारेको हर देशवासी पढ़ रहा है

आज हर नेता बस नागरिको

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.