किसान भाई

0
26 -Apr-2017 Anju Goyal Profession Poems 0 Comments  153 Views
किसान  भाई

  प्यारे  किसान  भाइयों , तुम  हो हमारे  अन्नदाता
 रात दिन  मेहनत करके, बन गए सबके जीवनदाता ।
 
 सू

Seema Par jo Sainik Hain

0
02 -Feb-2017 अभय काने Profession Poems 0 Comments  135 Views
Seema Par jo Sainik Hain

Seema par jo sainik hain,
peeda wo sahate dainik hain,
kahin jamte thand mein to,
kahin rahate baahar ki gand mein,
nahin hain kisi se darte yah,
desh ke liye marte hain yah,
anek kasht sahkar humein bachaate hain,
har waar ko humare liye sah

Kavi-Dharm

0
24 -Nov-2016 Rajendra Bahuguna Profession Poems 0 Comments  90 Views
Kavi-Dharm

कालेधन पर कविता लिखना क्या कवियों का काम नही है
अब हा-हाकार मचाने वाली हर घटना क्या आम नही है
जन

भिखमंगे..

0
13 -Sep-2016 p.m. Profession Poems 0 Comments  112 Views
भिखमंगे..

हम कई जगह मिलेंगे
मन्दिर,मस्जिद,बाजार
और कभी तुम्हारी ही गली में
हम भिखमंगे हैं साहब
हमारा समू

मजदूर की व्यथा

0
13 -Sep-2016 p.m. Profession Poems 0 Comments  129 Views
मजदूर की व्यथा

कभी मजदूरमण्डी से,
कभी कच्ची पगदण्डी से
सरपट दौड़ रहा जीवन में
वह मेहनतकश इन्सान
कमाने को कुछ

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017