Shubhchintak Hain Vriksh Humaare

0
Shubhchintak Hain Vriksh Humaare

Nahin maangte hain kuchh humse, humko sab upalabdh karaate.
shubhchintak hain vriksh humaare, durlabh saamagri upjaate ..

Hain vishist gun in vrikshon mein, anyatr nahin mil sakte hain.
chhipaa-chhipa kar rakhen urja, praapt surya se karte hain

Aao Hum Ped Lagaayein

0
Aao Hum Ped Lagaayein

आओ हम पेड़ लगायें, आओ हम पेड़ लगायें ।
धरती पर हरियाली लाकर खुशहाली लौटायें ॥
आओ हम पेड़ लगायें

Bhavishya

0
Bhavishya

एक जगह थे थोड़े से पेड़
जो रखते थे हरदम छाया
जब सूरज अपनी गर्मी बढाता
हर कोई उनकी छाया में आता

पे

Lakadi Wali

0
Lakadi Wali

लकड़ी-वाली,लकड़ी-वाली
क्यों तुम जंगल जाती हो?
सूखी लकड़ी तुम बीनो
या हरे पेड़ भी लाती हो?

भोलू-राजा,

Plant the trees and save the Earth..

2
Plant the trees and save the Earth..

“आज हमें धरती को, फिर से स्वर्ग बनाना है।
हरे वस्त्र इसकेआभूषन, फिर से इसे पहनाना है।
प्रदूषण को

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.