Jaaya na kar waqt yeh

0
18 -Dec-2016 ARJJUN Time Poems 0 Comments  96 Views
Jaaya na kar waqt yeh

Jaaya na kar waqt yeh
Hai bada saqt yeh
Pyaar mein dil tutna laazmi
Na dekhe aasmaa
Na dekhe yeh jami
La hi de la hi de
Aankhon mein nami

Rulaya hai isne saare jahaa ko
Gumaya hai aashiqo ko yaaha waha ko
Picha bhi na chode yeh
Dam bhi n

Ae Waqt Zara Sambhal ja Tu

1
Ae Waqt Zara Sambhal ja Tu

ए वक्त ज़रा सम्भल रे तू,
बहुत वक्त हुआ,
कभी बदल रे तू,
कितना रूलाएगा मुझे,
ये सच ज़रा उगल रे तू,
को

Samay - Kabhi na rukne wala

0
Samay - Kabhi na rukne wala

Samay hai wah jo kabhi rukta nahin,
Vahi hai ko kabhi thamta nahin,
Satata hai hame bahaut,
Rulata hai hume bahaut,
Agar ham ruke toh,
Agge bhag jata hai bahaut,
Milana hoga tumhe isse hath,
Varna nahin dega ye tumhara sath,
Achhe samay ko bh

समय से कौन जीता है समय ने खेल खेले हैं

0
समय से कौन जीता है समय ने खेल खेले हैं

ग़ज़ल( समय से कौन जीता है समय ने खेल खेले हैं)

अपनी जिंदगी गुजारी है ख्बाबों के ही सायें में
ख्ब

मेरा आने वाला कल आज ना हो……

3
मेरा आने वाला कल आज ना हो……

मुझे पता ना था की
मेरा आज कल सा होगा
जैसे कल रोया था
वैसे आज भी रोना होगा
जो सपने थे कल टूटे
वो आज

Is writing is your passion?

Then join us to spread your creativity to world. Registration is absolutely free.