नारी शक्ति को प्रणाम

0
11 -Mar-2017 RAJ Woman Poems 0 Comments  58 Views
नारी शक्ति को प्रणाम

समझो इसे सौभाग्य , मेरा आपका है भाग्य ,
आज एक ऐसा शुभ काम कर लीजिए।
है अखंड निर्माता सारी सृष्टि

Naari nahin kisi nar se kam

0
10 -Mar-2017 Anju Goyal Woman Poems 0 Comments  67 Views
Naari nahin kisi nar se kam

नारी नहीं है .....
किसी नर से कम
उसे कम आंकना
पुरुषों का है
सबसे बड़ा भ्रम ।

एक ही नारी के
हो

नारी

0
08 -Mar-2017 Jyoti Woman Poems 0 Comments  73 Views
नारी

नारी तुम स्वयं अपनी
पहचान हो
तुम ईश्वर का अनमोल
उपहार हो
तुमसे ही हर रिश्ता है
घर की जान

नारी और वृक्ष

0
08 -Mar-2017 Dheeraj Sharma Woman Poems 0 Comments  36 Views
नारी और वृक्ष

सच में नारी और व्रक्ष एक समान ही होते हैं
क्यूंकि दोनों ही तो दुसरों के सुख में खुश होतें हैं
दो

Jab Bhi Dhundha Khud Ko Wo Pramaan Mila Tum Me

0
08 -Mar-2017 Frista Woman Poems 0 Comments  51 Views
Jab Bhi Dhundha Khud Ko Wo Pramaan Mila Tum Me

"Mere tn-mn ke hr pahon me
Tera vaas rha krta...
...
Ek aurt rhti hai chupke se hr pl mujh me
Kabhi 'Maa' kabhi ' Bhn' Kabhi 'Ptni' to kabhi 'Beti' bnkr...
...
Hmesa ek aurt ka sath rha krta
Ek bhrosa saa aurt pr atoot hua krta...
...

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view and vote contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017