Latest poems on indian Independence days, 15 august poem, swatantrata diwas kavita, swadhinta diwas

आज़ादी का जश्न

0
15 -Aug-2018 nil 15 August Poem 0 Comments  58 Views
आज़ादी का जश्न

आज़ादी का जश्न आजादी का जश्न मनाता भारत प्यारा देश बिखर रहा है धरा गगन में आजादी का रंग आँख खोल कर जो भी देखे रह जाएगा दंग राम रहीम के घर आँगन जगर मगर हैं दीप देखो लिखती रात अमावस उजियारे कई टीप गाँव शहर का बदल रहा है

हम सब लोगों की है शान तिरंगे में

0
14 -Aug-2018 Gaurav yadav 15 August Poem 0 Comments  172 Views
हम सब लोगों की है शान तिरंगे में

अपने हिंदुस्तान की पहचान तिरंगे में आजाद,भगत,बोस की है जान तिरंगे में बसे हैं कई वीरों के श्मसान तिरंगे में होली,दीवाली,ईद,रमजान तिरंगे में हम सब लोगों की है शान तिरंगे में आज ही आता है इंसान का रुझान तिरंगे में क

आज दिन है, देश की आजादी का......!!

0
09 -Aug-2018 pravin tiwari 15 August Poem 0 Comments  763 Views
आज दिन है, देश की आजादी का......!!

आज दिन है, देश की आजादी का......! यह दिन, स्‍वतंत्रता दिवस कहलाता है......! पर गौर से देखो, इस लहराते तिरंगे को.......! इसमें कई शहिदों का, लहू नजर आता है.......! इस देश की, आजादी के लिए.......! कई मां-बाप ने, अपने चराग भी बुझाएं है.......! सिर्फ त

आजादी के वीर

0
09 -Aug-2018 Suresh Chandra Sarwahara 15 August Poem 0 Comments  489 Views
आजादी के वीर

आजादी के वीर _______________ आजादी के उन वीरों को शत शत मेरा वन्दन है, जिनके बलिदानों से मिट्टी हुई देश की चन्दन है। जिनके कारण आज सुरक्षित उत्तर में केसर - क्यारी, दक्षिण में सागर तक फैली इनकी ही पहरेदारी। पूरब के सूरज में

Mere Desh se tum na bair karo

1
05 -Aug-2018 Bimal Shahi 15 August Poem 0 Comments  290 Views
Mere Desh se tum na bair karo

Ye Bharat hai Ye Jannat hai Tum Jannat ki sair karo Mere desh se tum na bair karo Iss desh se tum na bair karo Humpe hui hai kitni chadhayi Humne ladi hai kitni ladayi Mugalo aur afgano se Kaise hume azadi mili hai,Ye puchho azadi ke diwano se Aaj azadi mangne walo Baat na tum be-sir pair karo Mere desh se tum na bair karo Iss desh se tum na bair karo Hum sone ki chidiya kahlate the Door door se log yahan aate the China se , Yunan se Mera Bharat hai sabse achchha, ye puchh lo sare jahan se Bharat se nafrat karne walo Pahle tum apni khair karo M

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017