Latest poems on teachers day, sikshak diwas kavita

आजादी के वीर

0

Azadi Ke Veer: "Heroes of Freedom" is a new patriotic poem dedicated to Indian freedom fighters who help our country to get freedom from British India company. This poem also appreciate the bravery and efforts of Indian armies to maintaining this freedom and protect us from foreign invaders.

09 -Aug-2018 Suresh Chandra Sarwahara 15 August Poem 0 Comments  683 Views
Suresh Chandra Sarwahara

आजादी के वीर
_______________
आजादी के उन वीरों को
शत शत मेरा वन्दन है,
जिनके बलिदानों से मिट्टी
हुई देश की चन्दन है।
जिनके कारण आज सुरक्षित
उत्तर में केसर - क्यारी,
दक्षिण में सागर तक फैली
इनकी ही पहरेदारी।
पूरब के सूरज में इनसे
मुस्कानों की लाली है,
पश्चिम के कण कण में इनसे
फैल रही हरियाली है।
आजादी की जोत जलाई
वीरों ने सब कुछ खोकर,
चले गए वे देशप्रेम का
बीज हमारे मन बोकर।
अमर शहीदों के सपनों को
हमको पूरा करना है,
चौड़ी खाई भेदभाव की
अब जल्दी से भरना है।
जो मशाल सौंपी है हमको
उसे जलाए रखना है,
सत्य न्याय के उजियारे में
अपने कर्म परखना है।
आजादी पर आँच न आए
रहे तिरंगा फहराता,
बलिदानी वीरों की गाथा
रहे देश हरदम गाता।
******
- सुरेश चन्द्र "सर्वहारा"



 Please Login to rate it.



You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017