Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

अगर कोई पड़ोसी मिले मेरे जेसा

0

Agar Koi Padosi Mile Mere Jaisa: The Hindi poem "If you find any neighbor like me" describe the life of a person living in the city far from his family for earning money for them. The poet have written that there are a lots of people living in your neighborhood which are far away from their home and family due to their family responsibilities. If you find any neighbor like this then make friend and give company to him.

05 -Aug-2018 Bipin verma City Poems 0 Comments  1,073 Views
अगर कोई पड़ोसी मिले मेरे जेसा

#अगर_कोई_पड़ोसी...

घर को आबाद करने निकला हूँ
पर खुद घर से बेघर हो चुका हूँ

मैं घर का ज़िम्मेदार लड़का हूँ
थोड़ा समझदार लड़का हूँ
घर का थोड़ा ज़िम्मा मुझपर भी है
इसलिए घर छोड़के निकला हूँ

बहुत ख़ुशनसीब होते हैं
वो लोग जो मिलके साथ रहते हैं
मुझ जैसे इस शहर में कई हज़ार रहते हैं

सब लाखों की भीड़ में अकेले फिरते हैं
अपना किसे कहें वो तो गाँव में रहते हैं

अगर कोई पड़ोसी हो तुम्हारा मुझ जैसा
तो उसे दोस्त बना लेना !!

अगर कोई पड़ोसी हो तुम्हारा मुझ जैसा
तो उसे अपना बना लेना
घर में न सही तो दिल में जगह दे देना

कभी महफ़िल सजे तो उसे भी बुला लेना



 Please Login to rate it.



You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017