Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

देखो देखो वो कौन है

0
23 -Aug-2021 AKHILESH ghritlahare Animals Poem 0 Comments  153 Views
देखो देखो वो कौन है

देखो देखो वो कौन है सुपा जैसे कान है छोटे छोटे आँखे है बड़ी ही ऊँची शान है देखो देखो वो कौन है पेड़ों पर उछलता है इधर उधर घूमता रहता है क्या सच में ये हमारे पूर्वज है देखो देखो वो कौन है जिसे कहते हे जंगल का राजा क्या ह

नागों की रानी

0
03 -Apr-2021 सिफ़र Animals Poem 0 Comments  548 Views
नागों की रानी

नागों की रानी श्याम वर्णा ,काल रात्रि ये नागों की रानी , वशीभूत है जब तक फूंक रहा बीन में वाणी , शल्क - शल्क तारों सा बिंब प्रकाशित पुंज , मस्तक पे धारण कर फिरे है चंद्रप्रभा मणि , संध्यकाल से भोरावधि तक सरसरायें है फ

Oont / Camel

0
27 -Feb-2020 Dinesh Vijayvargiya Animals Poem 0 Comments  761 Views
Oont / Camel

"Registan Ka Jahaaj" kehlata, Maru ki shaan kehlata oont. Maru utsav mein tarah-tarah ke, kartab bahut dikhata oont. Apni Lambi taangon se, sarpat daud lagaata oont. Kai dinon tak bin pani ke, jeevan apna jee jata oont. Apne kai guno ke khatir, samman sabhi ka pata oont.

गिलहरी, Squirrel

0
15 -Jul-2018 nil Animals Poem 0 Comments  2,455 Views
गिलहरी, Squirrel

दिनांक १३.०७ .२०१८ को बाल कल्याण एवम बल साहित्य शोध केंद्र में पठित बालगीत : गिलहरी टेर टेर कर कहे गिलहरी /बालगीत है मेरा प्रहरी जनम जनम का मीत है मेरा जीवन गीत है मेरे आँगन की बगिया में /एक गिलहरी रहती हर मौसम के ते

खरगोश

0
24 -Dec-2017 Suresh Chandra Sarwahara Animals Poem 0 Comments  9,371 Views
खरगोश

कितना प्यारा कितना भोला जैसे हो रूई का गोला , चाहा इससे बात करें हम पर मुँह से यह कुछ ना बोला। लम्बे लम्बे कान खड़े हैं हीरे जैसे आँख जड़े हैं, चलते हैं ये फुदक फुदक कर पर फुर्तीले बहुत बड़े हैं। ढका मुलायम बालों से

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017