Latest poems on indian republic days, 26 january, gantantra diwas, swadhinta diwas

Basant Upawan Mein

0
25 -Jan-2018 Govind Bhardwaj Basant Poem 0 Comments  95 Views
Basant Upawan Mein

Ritu basant ki bahar chhayi upawan mein, hariyali ne dukan sajayi upawan mein. mausam ne bhi badala hai chola apna, phoolon ne khushboo bikhrai upawan mein. kal tak saare thoonth khade the pedon ke, ab patton ki chhata muskai upwan mein. Dhoondh ki barish hoti rahi raaton mein, shabanam mein kaliyan nahaai upawan mein. Jhoom raha hai bhanwara masti mein kitna, sarson phooli nahin samayi upawan mein. rang-rang se dharti ne kiya shringar, abhinandan mein koyal gai upawan mein.3

जय माँ सरस्वती.....।।

0
जय माँ सरस्वती.....।।

या देवी सर्वभूतेषु, विद्या रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।। जय माँ सरस्वती.....।। जय जय,जय हे माँ शारदे, झोली मेरी तू भर दे..!! मुझको शक्ति दे हे माता तू मुझको वर दे..!! कर दूर अज्ञान का अंधेरा ज्

ताकत कलम की

1
20 -Jan-2018 Sushil Kumar Basant Poem 2 Comments  341 Views
ताकत कलम की

हे भारत के वीर युवाओं, कर लो नमन माँ सरस्वती को, दिखा दो ताकत दुनियाँ को, कितनी शक्ति है तेरे कलमों में!! कोई बाँट ना पाये हमको, ऐसा इतिहास लिखो युवाओं, हर घर में वीर जन्मा है, बस कोई उन्हें जगा दो!! तलवार नहीं अपनी-अपनी

ऋतुराज बसन्त

0
14 -Jan-2018 Suresh Chandra Sarwahara Basant Poem 0 Comments  574 Views
ऋतुराज बसन्त

आ गया धरती के सिंगार का मौसम। उतर गये पेड़ों से जर्जर सब पात, सिहराते दिवस गए ठिठुराती रात। बीत गया सपनों पर तुषार का मौसम। आ गया........। फूलों से लहक उठी पेड़ों की शाख, नाप गई नभ को भी चिड़िया की पाँख। खुशियों के क्षित

ऋतुराज

1
15 -Feb-2017 Suresh Chandra Sarwahara Basant Poem 0 Comments  1,300 Views
ऋतुराज

ऋतुराज _______________ आ गया धरती के सिंगार का मौसम..... उतर गए पेड़ों से, जर्जर सब पात सिहराते दिवस गए, ठिठुरन की रात। बीत गया सपनों पर, तुषार का मौसम। आ गया धरती के सिंगार का मौसम.... । फूलों से लहक उठी, पेड़ों की शाख नाप गई नभ को भ

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017