Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

लो वसंत अब आ गया !

1
03 -Feb-2020 nil Basant Poem 0 Comments  621 Views
लो वसंत अब आ गया !

लो वसंत अब आ गया ! हर ऋतु के तेवर अलग ,अलग अलग पहचान कोई डंडे भाजती ,कोई फूंके प्राण पतझर के पतझार ने ,जो बोए विष बीज हर उपवन हर शाख पर,खीज खीज बस खीज लो वसंत अब आगया ,फूंक दिए हैं शंख धरा गगन कण कण खिला,लगे अनूठे पंख फूलो

ऋतुराज की शान

2
29 -Jan-2020 Ankita Singh ( Ankita Lucknowist ) Basant Poem 2 Comments  647 Views
ऋतुराज की शान

अनुपम है ऋतुराज की शान , हर्ष उल्लास का हो रहा भान , वीणा की मधुर तान से , वीणा वादिनी का हो रहा गुणगान ।। अनुपम है ऋतुराज की शान, प्रकृति कर रही बंसती स्नान सरसों के पारितोषक से , धरणी का हो रहा सम्मान ।। अनुपम है ऋतुर

Basant Panchami Tyohar

0
20 -Jan-2020 Harjeet Nishad Basant Poem 0 Comments  467 Views
Basant Panchami Tyohar

Man chaha mausam phulon per bahar. Ullas lye aya basant panchami tyohar. Amon ke pedon per khil aye bor. Kuhuk uthi koyalia nach uthe mor. Bahurangi titaliyan mandarati phulon per. Bhavanron ki gun gun gunji chanhu or. Sone si chamakili khil uthi sarason. Dharati ne odhi pili chader her or. Pili hai sarason udi pili patang. Genhun ki baliyon per basanti rang. Madmast ritu basant prem ka paigam. Harshaye cheharon per khushi aviram.

गीत (आज बसंत की छाई लाली)

0
17 -Oct-2019 Naman Basant Poem 0 Comments  1,001 Views
गीत (आज बसंत की छाई लाली)

गीत (आज बसंत की छाई लाली) आज बसंत की छायी लाली, बागों में छायी खुशियाली, आज बसंत की छायी लाली॥ वृक्ष वृक्ष में आज एक नूतन है आभा आयी। बीत गयी पतझड़ की उनकी वह दुखभरी रुलायी। आज खुशी में झूम झूम मुसकाती डाली डाली। आज ब

लो वसंत आ गया !

0
09 -Feb-2019 nil Basant Poem 0 Comments  2,057 Views
लो वसंत आ गया !

लो वसंत आ गया ! खिली कली खिला सुमन हँसी धरा हँसा गगन मलय समीर मंद मंद गंध में समा गया ... कोयलिया कूक उठी भ्रमर भीड़ गा उठी फाग का मधुर गीत बाग़ बाग़ छा गया ... आम जाम महक उठे बाग़ फाग बहक उठे मधुरितु के आँगन में बौर बौरा गया ...

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017