Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Daughter of Nature.

0
24 -Jun-2022 ताज मोहम्मद Beauty Poems 0 Comments  50 Views
Daughter of Nature.

She grew up in the lap of nature... That is why she is full of pleasure...!! Her natural beauty looks so fresh... I'm fascinated by her...!! Her lips are like a rose petal... Cheeks are like her red apple...!! Her hair is spring season... like sea water in her eyes...!! she is very happy... she is the daughter of nature...!! She is very fickle at heart... Her body is as beautiful as snow...!! I wish I could have that, become my life partner... so all my life I love her...!! I understand her, every feeling by my heart... never let her cry... she

आंँखों का नजारा

0
02 -Apr-2022 Buddha Prakash Beauty Poems 0 Comments  216 Views
आंँखों का नजारा

आंँखें देखती है जग सारा, सुंदर दृश्य प्यारा-प्यारा, अपने आप ही सुंदर होती , पलक झपकते बदल जाए सारा । क्षण भर में प्यासी हो जाती , अगले पल ही आंँसू बहाती, एक कण ने आंँखों को मारा , असहनीय पीड़ा से उलझा नजारा । पलके ढकते

एक राज है ये आंखे

0
09 -Mar-2022 Megha Raghuwanshi Beauty Poems 0 Comments  204 Views
एक राज है ये आंखे

एक राज है ये आंखे बहुत कुछ कहती है ये आंखे पढ़ सको इन आखों को तो पढ़ लो बहुत कुछ कह रही हैं ये आंखे एक सवाल है ये आंखे ले सको जवाब तो ले लो एक गुपचुप राज है ये आंखे कितनो ने देखी ये आंखे कितने ही समझ पाए,ये आंखे कुछ राज

मेरे गीत

0
15 -Aug-2021 nil Beauty Poems 0 Comments  208 Views
मेरे गीत

मेरे गीत मेरे गीत नहा गंगा में धर्म निभाते हैं अपना बिरजू धनिया खेतों में जा खून बहाते जब अपना रूखी सूखी गले उतारें देखें सपनों पर सपना मेरे गीत लोरियां गाना फर्ज बताते हैं अपना अमराई में गंध बौर की कबिखरा दे जब

डाॅ आनंदकी गजल

1
05 -Aug-2021 nil Beauty Poems 0 Comments  237 Views
डाॅ आनंदकी गजल

डाॅ आनंद की गजल एक बात ,कहो तुम एक बात, सुनो तुम हम सभी एक हैं इसे भी ,गुनो तुम गम बहुत जग में सब भुने .भुनो तुम सब जगत भयभीत नया पथ ,चुनो तुम जगत ले आनंद गजल वो, कहो तुम

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017