Latest poems on teachers day, sikshak diwas kavita

मांग में चुटकी भर सिंदूर लगा के......!!

1
26 -Apr-2018 pravin tiwari Beauty Poems 0 Comments  451 Views
मांग में चुटकी भर सिंदूर लगा के......!!

मांग में चुटकी भर सिंदूर लगा के, बालों में गजरा सजाती है..........! जब पहनले वो साड़ी तो, कसी हूर से कम नहीं लगती है.........! कल तक थी जो बेटी किसी की, आज बहू का दर्जा वो निभाती है.........! सास ससुर की मर्यादा के लिए, अपने सिर पर पल्लू

एक हसीन फूल के जैसी है वो......

0
28 -Mar-2018 pravin tiwari Beauty Poems 0 Comments  390 Views
एक हसीन फूल के जैसी है वो......

एक हसीन फूल के जैसी है वो...... बड़ी नटखट बड़ी प्यारी है वो...... जैसे खुशबू घुल जाती हवाओं में, सब से ऐसे घुल मिल जाती है ‌वो...... मायूसी कभी उसके चेहरे पर नहीं, हर पल यूं हंसती मुस्कुराती है वो...... बातें उसकी ऐसी के बस सुनते ह

तुम्हारी मोहनी सूरत तो हर पल आँख में रहती

0
07 -Mar-2018 Madan Saxena Beauty Poems 0 Comments  189 Views
तुम्हारी मोहनी सूरत तो हर पल आँख में रहती




मैं तेरा सिंगार बनूं.......!!

0
29 -Jan-2018 pravin tiwari Beauty Poems 0 Comments  234 Views
मैं तेरा सिंगार बनूं.......!!




वो हुस्न-ए-हिजाब की एक मुरत है....!!

0
18 -Dec-2017 pravin tiwari Beauty Poems 0 Comments  407 Views
वो हुस्न-ए-हिजाब की एक मुरत है....!!

वो हुस्न-ए-हिजाब की एक मुरत है, बड़ी दिलकश बड़ी ही खुबसूरत है, होंठ गुल की लाली से उसके सजते, गाल कंवल की रंगत से निखरते हैं, सँवारने लगे जब वो अब-ए-आइने में, उसकी आभा से आइना भी चमकता है, जब बिखरती है जुल्फें उसकी सानो

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017