Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

झूठ

1
31 -Jan-2021 bharat Bewafai Poems 1 Comments  143 Views
झूठ

झूठ दिखावा, झूठ पहनना, झूठ बोलना... झूठी नीयत, कमतर कीमत, मुकर तोलना... मैला दामन मैला अंतर कब समझे ऐतबार की बातें, नेह बंध में बंधकर भी तो झूठ बोलना हृदय तोड़ना... भारतेन्द्र शर्मा (भारत) धौलपुर

Gazal

0
20 -Jan-2021 Parmanand kumar Bewafai Poems 0 Comments  86 Views
Gazal

गज़ल ******* 24.01.2005 1 जब भी किसी ने हाथ थामा मेरा, हँसाने को वक़्त ने, हर कोशिश की मुझे, रुलाने को..... ............ 2 हमने आशियाँ तक जलाया आपना, रौशनी के लिए वक़्त ने आँधियाँ लाईं, उसे बुझाने को...... ............ 3 मेरी तो कोशिश थी, कि रौशनी पहुंचे

फिर एक दफा इस दिल को दुखाते जाओ

0
07 -Jan-2021 Vishal मिश्रा Bewafai Poems 0 Comments  358 Views
फिर एक दफा इस दिल को दुखाते जाओ

फिर एक दफा इस दिल को दुखाते जाओ हमें छोड़ जाने का__जश्न तो मनाते जाओ हम तुम्हारे लिए_____ कुछ थे भी के नहीं जा रहे हो तो महज इतना तो बताते जाओ तुम्हारी कसम____ हम न रोकेंगे तुम्हे पर आखरी बार तो__ देख के मुस्कुराते जाओ कहो

लिख दू ...

0
02 -Dec-2020 Ajit Singh Negi Bewafai Poems 0 Comments  310 Views
लिख दू ...

वो कहती है कभी लिखा नहीं आपने कुछ... अरे लिखने को तो मैं सारा जहाँंन लिख दू ... वो कहते है पूछा करो कोई सवाल हमसे कभी .. पूछने पे आया तो सारा इम्तिहान लिख दू... पर अब तो कलम पे भी यकीन नहीं मुझे अपनी कही लिखने चला इश्क़ और कि

A sanam mujhe firse barbad kr de

0
14 -Jul-2020 Ajit Dubey Bewafai Poems 0 Comments  226 Views
A sanam mujhe firse barbad kr de

Ek shaks tha Jo kbhi mujhse Ruth gaya tha Ek sath sath tha uska Jo kbhi chhut gaya tha Me firse vahi sapna dekh raha hu Jo kbhi tut gaya tha Ishq k dariya k is paar ya us paar de E sanam aa mujhe firse barbaad kr de Ishq he ik bimari Mujhe bhi bimar karar kr de E sanam ik baar fir mujhe barbad kr de E khuda mere sanam ki sada hifazat krna Chahe bure mere haalat kr de Khus rhe vo chahe mujhe barbad kr de E sanam mujhe firse barbad kr de....

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017