Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

गर तुम

0
31 -May-2022 Rambabu Tiwari Bewafai Poems 0 Comments  34 Views
गर तुम

गर तुम यूँ मुख मोड़ न गए होते तुम हमारे और हम तुम्हारे होते कितनो का चाँद होगा तू पर मेरी तो पूरी दुनिया ही तुम होते गर तुम यूँ........... तेरी ही खुशबू से महकती मेरी साँसे भीगा भीगा सा एहसास दिलाते रूह से रूह में सिमट ही ज

उसपे एक किताब लिखूंगी

0
29 -Mar-2022 Nadiya Ashrafi Bewafai Poems 0 Comments  21 Views
उसपे एक किताब लिखूंगी

मैं उसपे एक किताब लिखूंगी उसमे उसे मैं सबसे खास लिखूंगी, उसके हर गलती का उसमे हिसाब लिखूंगी उसके झूठ का उसमे मैं जवाब लिखूंगी, उसके प्यार भरे हर इक राज लिखूंगी उसके वादों पे मैं सवाल लिखूंगी, उसके बताए हुए हर बात क

इश्क मेरा बेअसर हो रहा है।

0
15 -Mar-2022 ताज मोहम्मद Bewafai Poems 0 Comments  52 Views
इश्क मेरा बेअसर हो रहा है।

इश्क मेरा बे असर हो रहा है। सनम पत्थर दिल बन रहा है।।1।। कहता है इश्क होता नही है। तो तेरे खतों मे क्या लिखा है।।2।। आकर देखो मेरी किताब में। तेरा दिया वह गुलाब रखा है।।3।। क्या कहूं दिल क्यों रो रहा है। तेरी बे वफाई

ब्लॉक

0
21 -Feb-2022 Alam Raaz Bewafai Poems 0 Comments  99 Views
ब्लॉक

इस तरह ना देख की तुझसे नज़रे मिलानी पड़ जाऐं कही मेरा दिल तेरी मुहब्बत मे पड़ जाऐं। में तेरी चाहत नही हु तो शुरुआत मे ही पीछे हट जाना, कहीं ऐसा ना हो बाद मे मुझे ब्लॉक करना पड़ जाऐं ।।

हद से गुज़र गए है।

1
27 -Jan-2022 ताज मोहम्मद Bewafai Poems 0 Comments  285 Views
हद से गुज़र गए है।

हम उनको पाने की खातिर हद से गुजर गए है। मौका जब आया मिलने का तो वो मुकर गए है।।1।। ऐसा भी कोई करता है क्या जो वह कर गए है। ज़िंदगी में हमारी वो अब गुज़रे वक्त बन गए है।।2।। उनको करनी ना थी बेवफाई जो वो कर गए है। हम ज़िंदा ह

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017