Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

बेवफ़ा

0
05 -Apr-2020 DassY Bewafai Poems 0 Comments  95 Views
बेवफ़ा

देखकर छुपते थे जिन्हें कभी आज छुपकर उन्हें देखा करते है नजर मिलाने को तरसते थे कभी आज उनके नजरों से छुपा करते हैं वक़्त के रुक जाने को दुआ करते थे जिनके लिए कल आज उन्हीं के कारण रक्त बहा कर यादें मिटाया करते है वक़

वादा किया था जो तुमसे.....

0
03 -Apr-2020 DassY Bewafai Poems 0 Comments  522 Views
वादा किया था जो तुमसे.....

याद आ रही है उन्हें आजकल बचपन की नादानियां किसी से कभी मोहब्बत उन्हें भी हुई थी फिर भी न जाने क्यूं कर रहीं हैं वो मेरे प्यार की बदनामियां वादा किया था जो तुमसे बिछड़ते वक़्त, निभा दूंगा जरूरत पड़ी तेरे लिए कभी जो,

कहाँ खो गया वो चन्ना हरजाई

0
15 -Mar-2020 ABHEE RAJA FARRUKHABADI Bewafai Poems 0 Comments  203 Views
कहाँ खो गया वो चन्ना हरजाई

दर्दों से दिल अब रो चला है दूर से देख अब मुड़ चला है आँख मिलाने से वो डरता है मुझे पता है वो अब भी खफा है कहाँ खो गया वो चन्ना हरजाई क्यों की ओ चन्ना मुझसे वेवफाई पीर पीर तन छीर छीर हुआ हीर ओ हीर नैना नीर नीर हुआ मुझे ते

तुम जो गए

1
23 -Feb-2020 Purushottam Kumar Sinha Bewafai Poems 2 Comments  340 Views
तुम जो गए

तुम जो गए, ख्वाब कैसे बो गए! लेते गर सुधि, ऐ, सखी, सौंप देता, ये ख्वाब सारे, सुध जो हारे, बाँध देता, उन्हें आँचल तुम्हारे, पल, वो सभी, जो संग, तेरे गुजारे, रुके हैं वहीं, नदी के, वो ठहरे से धारे, बहने दे जरा, मन, या नयन, सजल, सार

Tu abhi bhi baki h

0
08 -Feb-2020 Ajit Dubey Bewafai Poems 0 Comments  217 Views
Tu abhi bhi baki h

Kis mod pr la kr u tu mujhe chhod gyi .. Lagta h mujhme hi kahi tu baki rah gayi Khamosh rhta hu ankhe hi meri taqleef kah gayi Me tujhe yaad karta rha rota rha Shayad tu mujhme kahi baki rah gayi... Roi tu bhi hogi dard tujhe bhi hua hoga Shayd tu bhi apna dard andr hi andr sah gayi.... Mujhe chhod kr to tu chali gayi Pr ek yaad bankr tu mujhme hi kahi rah gayi....

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017