Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

बचपन के खेल

0
17 -Jun-2021 Alok Pandey Childhood Poems 0 Comments  77 Views
बचपन के खेल

बचपन के खेल हमें खूब भाता था, गिल्ली-डंडा या हो छुपम-छुपाई सब बच्चों को इसमें मजा आता था। कभी खेलतें चोर सिपाही, कभी खेलते कांचा गोली। हर दिन अपनी मौज रहती, खूब खेलते आँख-मिचौली। रस्सी-कस्सी पिट्ठू गरम, खेलते साथ ह

हाथों हाथ किताब

0
16 -Jun-2021 nil Childhood Poems 0 Comments  73 Views
हाथों हाथ किताब

हाथों हाथ किताब घर घर सबके हाथ किताब दादी जागी/बिल्ली भागी गरम गरम टी/दादा माॅगी पीकर थामी हाथ किताब चाची चाचा/मम्मी पापा मुन्नी मुन्ना /पढ़ना भाया सोहे सबके हाथ किताब सबका पढ़ना/अपना अपना हमने सीखा/जग ने सीखा सब

Yaad Bachpan Ki

0
08 -Jun-2021 Ritu Gautam Childhood Poems 0 Comments  48 Views
Yaad Bachpan Ki

आया रे आया याद, वो बचपन पुराना, वो गर्मियों की छुट्टियाँ, गाँव में मनाना। साथ हँसना हँसाना, वो रूठना मनाना, आया रे आया याद ,वो बचपन पुराना।। वो खेलना कूदना, वो छुपना छुपाना, रंग बिरंगी पतंगे, साथ गुब्बारे उड़ाना आया र

ਬਚਪਨ

0
03 -Feb-2021 ਦੀਪੂ ਗੁਰੂਗੜ੍ਹ Childhood Poems 0 Comments  158 Views
ਬਚਪਨ

ਹੁੰਦੇ ਸਿਗੇ ਦਿਨ ਓਹ ਸੁਹਾਣੇ ਵੇਲੀਓ.. ਦੁੱਖ ਸੁੱਖ ਹਾਸਿਆਂ ਚ ਮਾਣੇ ਵੇਲੀਓ.. ਬਰਸਾਤਾਂ ਦੇ ਦਿਨਾਂ ਚ ਬੜੇ ਟੈਰ ਸੀ ਭਜਾਏ.. ਮੀਂਹ ਪੈਂਦੇ ਵਿੱਚ ਅਸੀਂ ਸਾਇਕਲ ਚਲਾਏ.. ਸਾਰਾ ਸਾਰਾ ਦਿਨ ਮੌਜਾਂ ਲੁੱਟਦੇ ਸੀ ਰਹਿੰਦੇ.. ਕਦੇ ਬੰਟੇ,ਕਦੇ ਛੂਹਣ ਬਸ ਟਿਕ ਕੇ ਨਾ ਬਹਿੰਦੇ.. ਮੋਢੇ

आया मधुर बांसुरी वाला

0
15 -Jan-2021 Harjeet Nishad Childhood Poems 0 Comments  173 Views
आया मधुर बांसुरी वाला

आया मधुर बांसुरी वाला। छोटी बड़ी बांसुरी वाला। बच्चे दौड़ दौड़ कर आते। खुशी खुशी पास आ जाते। मिलकर सब बांसुरी बजाते। फूंक मार सुर साज सजाते। मन को खूब लुभाने वाला। आया मधुर बांसुरी वाला। लाठी में बांसुरी सजाता

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017