Main roj apne sapne adhure liye firta hu

1
11 -Nov-2016 Aakash Parmar City Poems 0 Comments  229 Views
Main roj apne sapne adhure liye firta hu

Leke charag aashao ke man me, Aashre ki loo jalaye rakhta hu, Girkar is jahan me fir se, Chalne ko khud ko taiyaar krta hu, Badne ko aage zindagi me, Main khud apna gudgaan karta hu, Is begaane sahar me ummed liye firta hu, Main roj apne sapne adure liye firta hu. Rahgir hu, apni raah pr chalta hu, Galtiyo ka putla hu, galtio se sikhta hu, Margdarshan nhi sangarsh ki rah me, Chale ja rha hu manjil ki chah me, Mukammal nhi irade mere, ye baat jatate rahta hu, Abhi bhi khada hu apni raah me, sabko dikhate rahta hu, Bikhar na jau kahi sangarsh ki

दिलवालों की दिल्ली

0
08 -Nov-2016 Bas Deo Sharma City Poems 0 Comments  114 Views
दिलवालों की दिल्ली




Chhota Shahar

0
31 -Aug-2016 Raman City Poems 0 Comments  279 Views
Chhota Shahar

लफ़्ज़ों का काफिला चला है आज छोटे शहरों के दौरे पे… ज़िन्दगी बँटी नही होती जहां किस्तों पे.. वक़्त जहां अपने धीमेपन से दिल्लगी करता है.. विविध भारती का स्वदेश वाला धुन लोगों के जुबान पे आज भी बसता है…. जहां हर दूसरे चौर

Delhi Ki Hai Shaan Metro

0
19 -Aug-2016 Rajnikant Shukla City Poems 0 Comments  264 Views
Delhi Ki Hai Shaan Metro

दिल्ली की है शान मेट्रो, हम सबका अभिमान मेट्रो, समय कीमती कितना होता, करवाती यह ज्ञान मेट्रो, दोड़े खम्बों के ऊपर से, बैठने वाले बैठें तनकर, जमींदोज़ सुंरंगों में भी, नवयुग का वरदान मेट्रो, बैठ गया है एक बार जो, चाहे

ग़ज़ल (कंक्रीट के जंगल)

0
08 -Mar-2016 Madan Saxena City Poems 0 Comments  375 Views
ग़ज़ल (कंक्रीट के जंगल)

ग़ज़ल (कंक्रीट के जंगल) कंक्रीटों के जंगल में नहीं लगता है मन अपना जमीं भी हो गगन भी हो ऐसा घर बनातें हैं ना ही रोशनी आये ,ना खुशबु ही बिखर पाये हालत देखकर घर की पक्षी भी लजातें हैं दीबारें ही दीवारें नजर आये घरों में

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017