Latest poems on teachers day, sikshak diwas kavita

हाँ, हम झारखंडी है ...

1
15 -Oct-2018 Piyush Raj City Poems 0 Comments  287 Views
हाँ, हम झारखंडी है ...

_"वैसे तो हम सब हिंदुस्तानी है ,पर ये कविता इसलिए लिखा हूँ क्योंकि जब झारखंड के लोग दूसरे राज्य जाते है तो वहां उनका वेश-भूसा ओर बोली का लोग मजाक उड़ाते है ,बहुत से लोग दूसरे राज्य में ये बोलने में शर्माते है कि वे झा

अगर कोई पड़ोसी मिले मेरे जेसा

0
05 -Aug-2018 Bipin verma City Poems 0 Comments  209 Views
अगर कोई पड़ोसी मिले मेरे जेसा

#अगर_कोई_पड़ोसी... घर को आबाद करने निकला हूँ पर खुद घर से बेघर हो चुका हूँ मैं घर का ज़िम्मेदार लड़का हूँ थोड़ा समझदार लड़का हूँ घर का थोड़ा ज़िम्मा मुझपर भी है इसलिए घर छोड़के निकला हूँ बहुत ख़ुशनसीब होते हैं वो लो

Shahar jab yu badal jate

0
26 -Jun-2018 Pragya Sankhala City Poems 0 Comments  129 Views
Shahar jab yu badal jate

Shahar jab yu badal jate Man bhi tab badal jate Kuch alag sa hota tab Badla Badla lagta sab Bachman se jaha bade hue Pal me Sab Juda hue Nayi jagah yaade basana Aasan nahi hota hai Purane Sathi yu bhoolana Aasan nahi hota hai Bhoolkar Sab isme ram Jana Koi khel nahi hota hai Har jagh se yu hi nahi Rishta Naya hota hai Galiya Chobare Sabhi kuch alag hote hai Chehre bhi saare naye se hote hai Khidki drawaje se naye najare hote hai Khalipan se bhare dil hamare hote hai Gul milne wale insaan alag hote hai Dil Har kisi ke ek jaise nahi hote hai Udas

गाज़ियाबाद है नाम मेरा

0
16 -Feb-2018 Akshunya City Poems 0 Comments  350 Views
गाज़ियाबाद है नाम मेरा

गाज़ियाबाद है नाम मेरा, उत्तर प्रदेश का द्वार कहलाता हूँ, शान से सबसे नज़र मिलाता हूँ, मैं आज से नहीं खड़ा हूँ, मैं जन्मो जन्म से यहीं डटा हूँ, इतिहास अपना ईसा पूर्व से लिए खड़ा हूँ, 2500 ईसा पूर्व से मेरा खाता है, रामायण औ

Main roj apne sapne adhure liye firta hu

1
11 -Nov-2016 Aakash Parmar City Poems 0 Comments  439 Views
Main roj apne sapne adhure liye firta hu

Leke charag aashao ke man me, Aashre ki loo jalaye rakhta hu, Girkar is jahan me fir se, Chalne ko khud ko taiyaar krta hu, Badne ko aage zindagi me, Main khud apna gudgaan karta hu, Is begaane sahar me ummed liye firta hu, Main roj apne sapne adure liye firta hu. Rahgir hu, apni raah pr chalta hu, Galtiyo ka putla hu, galtio se sikhta hu, Margdarshan nhi sangarsh ki rah me, Chale ja rha hu manjil ki chah me, Mukammal nhi irade mere, ye baat jatate rahta hu, Abhi bhi khada hu apni raah me, sabko dikhate rahta hu, Bikhar na jau kahi sangarsh ki

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017