Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

BANARAS KI MAHIMA

12
12 -Sep-2015 Aarna Singh City Poems 0 Comments  4,359 Views
BANARAS KI MAHIMA

MOORKH kya jaane banaras ki khaasiat,

wo nahi jaante GANGA MAA ki ahmiat,

banarasi sari aur banarasi paan,

ye to hai pure desh ki jaan,

yanha ke ghaat aur kaleen,

pure dunia me maane jaate hai behtareen,

BHU aur SARNAATH,

yanhi rahte hai KASHI VISHVANATH,

DURGA KUND aur SANKAT- MOCHAN,

sham ko GANGA -ARTI avlochan,

paas hi hai MAA VINDHYAVASHNI,

RIHAND BANDH aur CHUNAR DURG avasthapini,

TULSI aur KABIR ki dharti,

BISMILAAH KHAN ki ruh hai basti,

JAI SHANKAR PRASHAD aur MUNSHI PREM CHAND,

jinke sahitya mein seekh aur anand,

LAL BAHADUR SASHTRI aur NARENDRA MODI,

yanha ka danka pure dunia me baja di,

PAGAL aur khud chor kahte hai yanha rahte hai thug,

par hum jaante hai unki rag-rag,

jinhe kuch gyaan nahi hai,

unhe BANARAS KI pehchan nahi hai



बनारस की महिमा

मूर्ख क्या जाने बनारस की खासियत ,

वो नहीं जानते गंगा माँ की अहमियत ,

बनारसी साडी और बनारसी पान ,

ये तो है पूरे देश की जान ,

यँहा के घाट और कालीन ,

पूरे दुनिआ में माने जाते है बेहतरीन ,

बी. एच .यू. और सारनाथ ,

यंही रहते है काशी विश्वनाथ ,

दुर्गा कुण्ड और संकट - मोचन ,

शाम को गंगा -आरती अवलोचन ,

पास ही है माँ विंध्यवाशनी ,

रिहंद बांध और चुनार दुर्ग अवस्थापिनी ,

तुलसी और कबीर की धरती ,

बिस्मिलाह खान की रूह है बसती ,

जयशंकर प्रशाद और मुंशी प्रेमचंद ,

जिनके साहित्य में सीख और आनंद ,

लाल बहादुर शाश्त्री और नरेंद्र मोदी ,

यँहा का डंका पूरे दुनिआ में बजा दी ,

पागल और खुद चोर कहते है यँहा रहते है ठग ,

पर हम जानते है उनकी रग -रग ,

जिन्हे कुछ ज्ञान नहीं है ,

उन्हें बनारस की पहचान नहीं है .


 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017