Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

कोरोना से लडती दुनिय

0
12 -Apr-2020 DINESH CHANDRA SHARMA Natural Disasters Poems 1 Comments  591 Views
DINESH CHANDRA SHARMA

नाच रही है मौत सामने, मचा है सारे जग में शोर |
कोरोना से लडती दुनिया, देख रही भारत की ओर ||

सारे जग को उम्मीदें हैं, भारत इससे जीतेगा |
रणनीति अपनाएगा जब, शत्रु घुटने टेकेगा |
दुहरा है दायित्व हमारा, सबकी जान बचाना है |
खरा उतर कर उम्मीदों पर, देश की शान बढ़ाना है |
बीत जायेगी रात अँधेरी, जग में फिर से होगा भोर |
कोरोना से लडती दुनिया, देख रही भारत की ओर ||

कठिन नही है आज लड़ाई, न ही हमको डरना है |
सूतक के नियमों का पालन, केवल हमको करना है |
वरना पातक फन लहराकर, हम सबको ही डस लेगा |
मौत का तांडव चहुँ दिस होगा, नाग पाश में कस लेगा |
दूर रहें हम एक दूजे से, एक छोर से दूजे छोर |
कोरोना से लडती दुनिया, देख रही भारत की ओर ||

प्रेम प्रदर्शित करने का बस, एक तरीका अपनाएँ |
दूर दूर रहकर प्रियजन से, उसे सुरक्षा पहुंचाएं |
कोरोना संक्रमण नही तो, छिप के उसे जकड लेगा |
महारोग यमदूत सरीखा, आकर उसे पकड़ लेगा |
सामाजिक दूरी अपनाएँ, जोड़ें सदा प्रेम की डोर |
कोरोना से लडती दुनिया, देख रही भारत की ओर ||
ऋषियों ने एकांतवास के, सरल तरीके समझाए |
निर्जन स्थानों पर आश्रम, तभी उन्होंने बनवाये |
सामाजिक दूरी अपनाकर, बेहतर सामाजिक निर्माण |
दूर दूर जब रहें तभी तो, होगा सबका ही कल्याण |
भूल गए ऋषियों की शिक्षा, संकट जग में आये घोर |
कोरोना से लडती दुनिया, देख रही भारत की ओर ||

पारंगत हम भारतवासी, कम से काम चला लेते हैं
कई दिन तक बाज़ार न जाएँ, तब भी भोजन पा लेते हैं |
चटनी रोटी खाकर के भी, हमने न सामर्थ्य गंवाया |
चौदह वर्ष राम ने वन में, कंद मूल फल ही तो खाया |
आओ हम संकल्प करें और, मिलकर सभी लगाएं जोर |
कोरोना से लडती दुनिया, देख रही भारत की ओर ||
+++++++++++++++++++++++++++++



 Please Login to rate it.



You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

1 More responses

  • poemocean logo
    Omprakash Rai (Guest)
    Commented on 14-April-2020

    बहुत खूब।.

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017