Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

बालिका :- समाज का आईना

0
24 -Jan-2021 N.K.M.[ LYRICIST ] Daughter Poems 0 Comments  187 Views
बालिका :- समाज का आईना

बालिका है समाज का आईना , किसी को देता यह दिखाई ना , अपशकुन मत समझो इसका होना , फेंको मत समझकर इसको खिलौना, देखो ये कन्या की बात है, इनको पालना पुण्य की बात है, रब की भेजी ये सौगात है , इनके कारण बनती बारात है , पुत्र हुआ त

बेटी पर दोहे (बालिका दिवस पर )

0
24 -Jan-2021 Dr Sushil sharma Daughter Poems 0 Comments  118 Views
बेटी पर दोहे (बालिका दिवस पर )

बेटी पर दोहे (बालिका दिवस पर ) डॉ सुशील शर्मा सरिता बेटी एक सी ,निर्मल शीतल नेह। सरिता कुंजों में बहे ,बेटी बाबुल गेह। बड़े भाग बेटी मिले ,गर्व करें सब बाप। बेटी पाते ही धुलें ,जन्म जन्म के पाप। चिड़ियाँ जैसी बेटियाँ ,

बेटी सभ्यता की लंबी इतिहास है** ..

0
16 -Jan-2021 Parmanand kumar Daughter Poems 0 Comments  288 Views
बेटी सभ्यता की लंबी इतिहास है** ..

शीर्षक....** बेटी सभ्यता की लंबी इतिहास है** .......................... बेटी बेटी है तो जान है, माँ बाप की शान है! घर की मर्यादा, और आँगन की मुस्कान है! बेटी है तो जान है, उससे ही सारा जहाँ है! नैहर तो नैहर, ससुराल की भी संभालने वाली,एक सम्म

मंदिर की घंटी के जैसी मेरी बेटी प्यारी बेटी

0
07 -Jan-2021 bharat Daughter Poems 0 Comments  195 Views
मंदिर की घंटी के जैसी मेरी बेटी प्यारी बेटी

क्या है क्यों है और कैसी है.. चंदन की खुस्बू जैसी है.. मेरी बेटी प्यारी बेटी। मम्मा उसको दिनभर टोके.. पर मंदिर की घंटी के जैसे.. वो दिनभर बजती रहती है, मेरी बेटी प्यारी बेटी। वो है तो घर घर लगता है.. घर घर क्या मंदिर लगता

संसार हो तुम।।

0
27 -Sep-2020 Dr. Swati Gupta Daughter Poems 0 Comments  660 Views
संसार हो तुम।।

ईश्वर का अनमोल उपहार हो तुम, खुशियों से भरा गुलज़ार हो तुम। यह जीवन हो गया तुम से रौशन, धुँध को हटाती उजियार हो तुम। बेटी बनकर सुख भरा आँचल में, प्यारी परी का साक्षात्कार हो तुम। मुस्कुराहट लेकर आयी जिंदगी में, दर्द

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017