Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

पापा की परी

0
15 -Jul-2020 Dr. Swati Gupta Daughter Poems 0 Comments  194 Views
पापा की परी

मेरी बिटिया है सबसे प्यारी, पापा की है राजकुमारी, दिनभर चहके घर में ऐसे, जैसे कूंकती कोयल न्यारी, जब गुस्सा हो जाती हमसें, हो जाती सूनी सी क्यारी, लाड़ जताती जब मुझसे वो दुनियां लगती मुझको प्यारी, फूल वो सुंदर मेरे घ

Papa ki Pari

0
31 -May-2020 RAMESH BISHT Daughter Poems 0 Comments  584 Views
Papa ki Pari

Paapuu, aap bolten ho mei aapki Pari hoon, Betu hoon, Mahira hoon aapki Paapuu, main abhi Sahi se bol Nahi paati toh kya hua Kya mujhe aapki Yaad Nahi aati, Saara din Ghar ke har kono mei aapko hi Dhundtii hunn Pata mujhe bhi hai, MERI Tasviron ko Dekh Yaad karten ho MERI Hansi Dekh Kar Kabhi hansten ho Kabhi Roo dete hoo Aur sapno mei bhi mujhse hi Baaten karten hoo Haan mummy ,Dada dadi khayaal toh rakhten hai meraaa Parr aap mujhe jyadaaa smjhten hoo.... Abb bas Jaldi se gharr aa jaoo Paapuu Jitnaaa pyaar Karti hoon, utnaaa gussaa bhii karti

---:"बेटी":---

0
10 -May-2020 BABUL KUMAR SINGH Daughter Poems 0 Comments  449 Views
---:

माँ मैं भी तेरी बेटी हूँ..... सारी दुनिया से थक कर, तेरी गोद में लेटी हूँ! जिस दिन मैं दुनिया में आयी, सबको खुश मैं रख ना पायी! कुछ ने मुँह को मोड़ लिया, तुझसे भी रिश्ता तोड़ लिया मेरे कारण तुम दुःख पायी, मैं कैसी अभागी बेटी

इक ख्वाब

0
07 -Apr-2020 Suprit Dere Daughter Poems 0 Comments  141 Views
इक ख्वाब

इक ख्वाब थी मेरी अब हकीकत बनचुकी हो तुम //2// मुझ जैसे भटके का सहारा बनचुकी हो तुम इस अंधे की आंखोकी रोशनी बनचुकी हो तुम रोते हुए दिल की हसी बनचुकी हो तुम दिल मे रखे सपनो की उमीद बनचुकी हो तुम इक ख्वाब थी मेरी अब हकीकत

एक गुहार

1
09 -Feb-2020 Bhagyashree Patidar Daughter Poems 0 Comments  259 Views
एक गुहार

काहे मेरे सपनों पर तु थोपे अपनी मर्जी बापू चाँद की इच्छा राखु में काहे फूलो से मुझे तू समझाए बापू उड़ने दे मुझे आसमान तक बेड़िया न बाँध मेरे पैरों में चाहती हु करना मुक्कमल अपने सपनो को एक मौका डाल के देख मेरी झोली म

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017