Latest poems on teachers day, sikshak diwas kavita

मैं वही हूं

0
06 -Dec-2018 Anand kumar (Manish) Dream Poems 0 Comments  128 Views
मैं वही हूं

मैं वही हूं जो आपसे मिला था उस दिन अंधेरी रातों में कड़कती बिजली और तूफान भरी बरसातों में मैं वही हूं आपको जिसने उस रात बचाया था आवारा कुत्तों को आपसे दूर भगाया था मैं वही हूं जिसका एहसान आप चुका नहीं सकते चाहा के

Bhagwan se Maang

0
09 -Nov-2018 Bijendra Aehsas Dream Poems 0 Comments  66 Views
Bhagwan se Maang

::::भगवान से मांग:::: कुछ नहीं भगवान और का मांगता हूं। कौन-सा तेेरा बैकुंठ मांगता हूं कौन-सा मांगता हूं आप का स्वर्ग थोडी से ख्वाईश है मेरी भी अयाशी का- नहीं जीना चाहता जिन्दगी ये तमाशी का- उडाने के लिए कुछ धन दे दे बिन

The journey begins

0
25 -May-2018 poet harsh Dream Poems 0 Comments  353 Views
The journey begins

Hey friends, I am not a good writer but still tried to write an poem/song which will be gona a nattrative type story... I tried to mantain its naration but being not a good writer I ended up in failing rhymes some places.... So, I hope you like it and enjoy reading... Lets go, There he comes, And journey to become a Legend beguns... One upon town , On a hill top down There lives a person Safe and soun'd... No one ever beats him He was unbeatable as it seems But then a person arose of nowhere.. Like he had to go somewhere... And challenges him t

कुछ खाब नये से …..

0
26 -Mar-2018 Saroj Dream Poems 0 Comments  342 Views
कुछ खाब नये से …..

कुछ खाब नये से ….. खाब इन दिनों के कुछ नये से बनने लगे है , अरमा भी दिलो के कुछ बदलने से लगे है , हर पल ख़ुशी का समां दिल में है , इन होठो के अल्फाज भी कुछ बदले से है , चाहत होने लगी इस दिल को अलग से है , न जाने किस सपनो में ये ज

स्नेहिल सपने

0
14 -Feb-2018 Akshunya Dream Poems 0 Comments  282 Views
स्नेहिल सपने

स्नेहिल सपनों में अक्सर दूर तल्क हो आती हूँ मैं, कभी दूर गगन में चिड़ियों संग विचरण करती, तो कभी गौरैया संग चोगा चुगती नज़र आती हूँ मैं, कभी मयूर संग सावन में नाचती, तो कभी कोयल संग अमुआ की डाली पर कुहूक लगाती हूँ मैं

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017