Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

वो वक़्त भी जरूर लाऊँगा...

0
29 -Jan-2019 Ravindra Shrivastava Dream Poems 0 Comments  120 Views
वो वक़्त भी जरूर लाऊँगा...




मुकम्मल जहां अब तुमसे है...

0
28 -Jan-2019 Ravindra Shrivastava Dream Poems 0 Comments  110 Views
मुकम्मल जहां अब तुमसे है...

मुक्कमल जहां अब तुमसे है, मेरी हर आरजू बस तुमसे है, दिल के गहराइयों नें अपना समझा है तुमको, अब हर ख्वाहिश पूरी होनी तुमसे है... अक्सर खलिश होती है ज़िंदगियों में, जीते है लोग कितनें ही मुफ़्लिसियों में, हमनें तो बस अब अ

जिंदगी कुछ इस तरह बदल जाए

1
09 -Jan-2019 Akanksha Thawait Dream Poems 1 Comments  230 Views
जिंदगी कुछ इस तरह बदल जाए

जिंदगी कुछ इस तरह बदल जाए....... बदलते वक्त की तरह, जिंदगी कुछ इस तरह बदल जाए ख्वाब जो आंखों में थे, अब हकीकत में नजर आए जिस खामोशी से दिन ढल जाता है, उस खामोशी को जुबां मिल जाए जिंदगी कुछ इस तरह बदल जाए जो फरियाद दिल मे द

मैं वही हूं

0
06 -Dec-2018 Anand kumar (Manish) Dream Poems 0 Comments  214 Views
मैं वही हूं

मैं वही हूं जो आपसे मिला था उस दिन अंधेरी रातों में कड़कती बिजली और तूफान भरी बरसातों में मैं वही हूं आपको जिसने उस रात बचाया था आवारा कुत्तों को आपसे दूर भगाया था मैं वही हूं जिसका एहसान आप चुका नहीं सकते चाहा के

Bhagwan se Maang

0
09 -Nov-2018 Bijendra Aehsas Dream Poems 0 Comments  149 Views
Bhagwan se Maang

::::भगवान से मांग:::: कुछ नहीं भगवान और का मांगता हूं। कौन-सा तेेरा बैकुंठ मांगता हूं कौन-सा मांगता हूं आप का स्वर्ग थोडी से ख्वाईश है मेरी भी अयाशी का- नहीं जीना चाहता जिन्दगी ये तमाशी का- उडाने के लिए कुछ धन दे दे बिन

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017