Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Barahanvi Pariksha-Jadugarni

0
10 -Sep-2012 sukarma Thareja Education Poem 0 Comments  2,614 Views
sukarma Thareja

एक है जादूगरनी – बारहवीं परीक्षा
दिखाती तमाशा - सभी बारहवीं पास,
करने के इच्छुक विद्यार्थियों को,
डुगी-डुगी बजाकर,
मजमा सा-जमाकर,
सभी अच्छे शैक्षिक संस्थानों की,
ख्याली शोभा यात्रा दिखाती,
अजब है, इस जादूगरनी का करिश्मा,
उसके पैबन्दी झोले में है,
सही कोचिंग सेन्टर का चुनाव,
एन0 सी0 आर0 टी0 की किताबें,
सी0 बी0 एस0 ई0 का पाठ्यक्रम,
८० से ९० प्रतिशत अंक पाने का जुगाड़,
बीए (आँनर्स) बी एस सी (आँनर्स), बी0 टैक0
कोर्सो की सौगात,
सेन्टर स्टीफन कालेज, मिंरान्डा हाउस
मायो कालेज, सेन्टर ज़ेवियर संस्थानो में
पढ़ाई के सपने,
डी0 यू0, आई आई टी, आई एस0 ई0 आर0
की सुनहरी मोहर,
मलटी नॅशनल कम्पनी की नौकरी,
१२ से १६ लाख नौकरी का पैकेज,
परिवार वालों के सपनें,
उनमें धुमड़ते विद्यार्थियों के सपने,
विदेश की सुखद यात्राएं,
ना जाने कैसे उसके झोले में रहते हैं,
आखिरकार एक दिन बारहवीं परीक्षा -जादूगरनी ने,
अपना जादू बिखेरा -------
कईयों को नब्वे प्रतिशत अंको से नवाजा,
कईयों को साठ प्रतिशत अंको पर धकेला,
जादूगरनी-जादूगरनी, कैसे करती हो यह जादू,
जादूगरनी-ठहरी,
सोचकर बोली, ये जादू नहीं है, मित्रों !
वही विद्यार्थी बारहवीं परीक्षा में अच्छे अंक लाता है,
जो कड़ी मेहनत करके दिखाता है,
मैं तो सिर्फ जादू ही दिखाती हूँ |
मैं तो गाँव-शहर दोनों में
एक जैसा जादू बिखेरती हूँ |
मेरा दिल तो सभी को,
८० से ९० प्रतिशत अंकों से, है
नवाज़ने को करता है,
परन्तु मेरे हाथ तो कटे हैं,
मेरिट के हाथ मेरे से बहुत लम्बे हैं |

प्रतिभावान विद्यार्थी मेरे जादू से,
समाज में 'फोड़' कहलाते हैं,
और अच्छे शैक्षिक संस्थानों में,
सरलता से प्रवेश पाते हैं |
देखो मित्रों,
सब की अपनी-अपनी क्षमतांए,
अपने-अपने क्षेत्र में होती हैं,
यह कोई जरुरी नहीं कि, सभी
बारहवीं परीक्षा में 'फोड़' बन जाएँ |
मेरा विनम्र निवेदन है कि तुम,
मेरे जादू से कतई ना घबराना,
अपने पर भरोसा रख,
मेहनत लगन से काम करते जाना |
मेरा जादू नहीं बिखरा तो क्या हुआ,
और कोई जादू अवश्य बिखर जाएगा,
देखते-देखते तुम्हारी कर्मठता के आगे,
बारहवीं परीक्षा का जादू पीछे छूट जाएगा |

डा० सुकर्मा थरेजा
क्राइस्ट चर्च कालेज
कानपुर



Dedicated to
to my dear son aditya

Dedication Summary
For his dedication towards his fellow friends

 Please Login to rate it.



You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017