Latest poems on teachers day, sikshak diwas kavita

शुभ हो इको फ्रेंड दिवाली

0
11 -Nov-2018 DINESH CHANDRA SHARMA Environment Poems 0 Comments  37 Views
शुभ हो इको फ्रेंड दिवाली

शुभ हो इको फ्रेंड दिवाली चहुँ दिसि अंधियारी मावस है , घोर अँधेरी काली काली | आओ मिलकर दिए जलाएं , शुभ हो इको फ्रेंड दिवाली || भारत माता के पुत्रों ने , सदा प्रकृति को माँ ही माना | माँ को हितकर और अहितकर , हमने अच्छे से प

भूमिपुत्र बोला भूमि से

0
22 -Oct-2018 DINESH CHANDRA SHARMA Environment Poems 0 Comments  93 Views
भूमिपुत्र बोला भूमि से

भूमिपुत्र बोला भूमि से , माता मुझको दे यह वर | खेती करके अन्न उगाऊं , और सभी का भरूँ उदर || माता बोली खेती करले , दाने सारे ले लेना | डंठल और तिनके पौधों के , केवल मुझको दे देना | अपना पोषण कर लूंगी में , तू भी अपना पोषण कर | भ

क्यों खेतों में आग लगाते ?

0
30 -Apr-2018 DINESH CHANDRA SHARMA Environment Poems 0 Comments  300 Views
क्यों खेतों में आग लगाते ?

पीढी दर पीढी की पूँजी , स्वेद बहाते अन्न उगाते | खेत हमारी रोजी-रोटी , क्यों खेतों में आग लगाते || जड़ और तना पत्तियों में जो , पोषक तत्व जमा हो जाते | पौधे संचित करते उनको , काम हमारे क्यों नहीं आते ? हैं बहुमूल्य स्रोत तत

पृथ्वी सभी प्राणियों का घर

0
15 -Apr-2018 DINESH CHANDRA SHARMA Environment Poems 0 Comments  2 Views
पृथ्वी सभी प्राणियों का घर

पृथ्वी सभी प्राणियों का घर | माँ के आँचल सा सुखदायक , पृथ्वी सभी प्राणियों का घर | यही अनूठा पिंड सृष्टि में , हरियाली और जीवन जिसपर || ओढ़ के चुनरी वायुमण्डल की , अन्तरिक्ष की रानी लगती | कवच सरीखी है ये चुनरी , रानी की र

सफाई का अभियान

0
17 -Feb-2018 Mamta Rani Environment Poems 0 Comments  371 Views
सफाई का अभियान

चाँद पे पहुँच गया यान लेकिन धरती पे नही है, सफाई का नाम। अभियान तो कई चले है लेकिन नही करते लोग उसका मान खुले आम करते मनमानी कूरा-करकट को रोड पे फैकने की ठानी कचरा पेटि रहता फिर भी नही करते उसमें कचरा दान इधर उधर फैं

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017