Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

अहीर छंद "प्रदूषण"

0
06 -Apr-2019 Naman Environment Poems 0 Comments  39 Views
अहीर छंद

अहीर छंद "प्रदूषण" बढ़ा प्रदूषण जोर। इसका कहीं न छोर।। संकट ये अति घोर। मचा चतुर्दिक शोर।। यह दावानल आग। हम सब पर यह दाग।। जाओ मानव जाग। छोड़ो भागमभाग।। मनुज दनुज सम होय। मर्यादा वह खोय।। स्वारथ का बन भृत्य। करे अस

जहा भरे ऊर्जा भण्डार

0
10 -Feb-2019 DINESH CHANDRA SHARMA Environment Poems 0 Comments  138 Views
जहा भरे ऊर्जा भण्डार

जहां भरे ऊर्जा भण्डार ऊर्जा से ही चलें मशीनें , ऊर्जा से ही ये संसार | प्रगति पथ पर वही देश हैं , जहां भरे ऊर्जा भण्डार || कृषि उद्योग स्वास्थ्य और शिक्षा , सभी क्षेत्र में आगे बद्गते | आर्थिक सामाजिक स्थिति को , वही दे

प्लास्टिक हटाओ

0
15 -Jan-2019 Abbas Bohari Environment Poems 0 Comments  248 Views
प्लास्टिक हटाओ

आओ मिलकर लगाए नारा करे साफ़ सड़क का किनारा प्लास्टिक के उत्पाद पर लगाए बंदी पर्यावरण को करती अनंत काल गंदी प्लास्टिक की मिटा दो झुठी शान न रहे बाकी दुनिया मे कोई निशान प्लास्टिक घुलता नही मिट्टीमें अनंत इसके पूर्

आओ सुन लो अजब कहानी

0
07 -Jan-2019 nil Environment Poems 0 Comments  296 Views
आओ सुन लो अजब कहानी

सरिताओं की गायब कल कल तन मन छीज रहा है पल पल नावें खड़ी हुईं हैं तट पर तन मन छीज रहा है प्रतिपल याद आ रही सबको नानी ... धरा गगन की बदली भाषा मौसम की गड़बड़ परिभाषा वन उपवन सब ताल तलैया डगमग डगमग सबकी नैया गूंजे घोर प्रदूष

ठंड के गरम दोहे

0
04 -Jan-2019 nil Environment Poems 0 Comments  213 Views
ठंड के गरम दोहे

ठंडके गरम दोहे ठण्ड आजकल हो गयी ,सचमुच बड़ी उदंड तोड़ ताड़ अनुवंध सब ,पेल रही है दंड सकल जगत का होगया ,दंड पेलना बंद फिर भी दोहे गा रहा ,जयजयराम आनंद किट किट कर रहे ,नर नारी के दांत रोके से रुकती नहीं ,ठण्ड करे उत्पात हाथ

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017