Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

सावन।

1
17 -Jul-2020 Dr. Swati Gupta Environment Poems 0 Comments  155 Views
सावन।

सावन

वृक्ष लगायें हंम

0
08 -Jul-2020 Harjeet Nishad Environment Poems 0 Comments  239 Views
वृक्ष लगायें हंम

वृक्ष लगायें हम, वृक्ष लगायें हम। वन की रक्षा करके आओ, बिश्व बचायें हम। शहरों में हरियाली लायें, गांवों में हरियाली। दूर प्रदूषण करके जग में, लायें हम खुशहाली। एक वृक्ष हर एक लगाये ,कोटि वृक्ष लग जायें। बाड़ लगाकर

मुसीबत

0
19 -May-2020 Mamta Rani Environment Poems 0 Comments  339 Views
मुसीबत

मुसीबत से मुक्ति नहीं है मिल रही, चारों और से विपदा से जानें घिर रही। एक तरफ आयी है कोरोना महामारी , जो हम सब पे पड़ गयी है बहुत ही भारी। कितने लोग हो रहे संक्रमित कितनी की जानें गयी, आर्थिक व्यवस्था हो गयी कमजोर जब स

मुसीबत से मुक्ति

0
19 -May-2020 Mamta Rani Environment Poems 0 Comments  293 Views
मुसीबत से मुक्ति

मुसीबत से मुक्ति नहीं है मिल रही, चारों और से विपदा से जानें घिर रही। एक तरफ आयी है कोरोना महामारी , जो हम सब पे पड़ गयी है बहुत ही भारी। कितने लोग हो रहे संक्रमित कितनी की जानें गयी, आर्थिक व्यवस्था हो गयी कमजोर जब स

प्रकृति की प्रवृत्ति

0
17 -May-2020 Mamta Rani Environment Poems 0 Comments  460 Views
प्रकृति की प्रवृत्ति

प्रकृति की प्रवृत्ति है निरंतर बढ़ते रहना धरा पे हो अनुचित प्रवृत्ति सब सहते रहना सब बच्चों को प्यार स्नेह वो देती है सबका बोझ उठाती है माता वो कहलाती है करती नहीं है वो किसी में भेदभाव सबको एकसमान हवा देना है स्व

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017