Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

BADHTA JATA TAAP DHARA KA(GLOBAL WARMING)

9
17 -May-2012 DINESH CHANDRA SHARMA Environment Poems 1 Comments  15,026 Views
DINESH CHANDRA SHARMA

बढ़ता जाता ताप धरा का (ग्लोबल वार्मिंग) |
बढ़ता जाता ताप धरा का , चिंता बहुत सताती है |
प्रलय जैसी महाविपत्ति , सम्मुख आती जाती है ||

पृथ्वी पर पानी ज्यादा सा , थल क्षेत्र है बहुत ज़रा सा |
बर्फ बना है जमा ध्रुवों पर , पृथ्वी के दोनो छोरो पर |
जमने की गति मंद पडी है , तेज़ पिघलती जाती है |
बढ़ता जाता ताप धरा का , चिंता बहुत सताती है ||

अनुमानों से तेज दौड़ता , जैसे जैसे ताप है बढ़ता |
हिमनद पिघल पिघल जल बनता , जल सागर में जाता छनता |
सुरसा मुख सी सागर लहरें , धरा निगलती जाती हैं |
बढ़ता जाता ताप धरा का , चिंता बहुत सताती है ||

क्षेत्र मनोरम कितने सारे , हरे भरे भरपूर किनारे |
खेत बाग़ वन और पझियारे , गाँव शहर बस्ती गलियारे |
साथ सभी के धरती माता , सागर बीच समाती है |
बढ़ता जाता ताप धरा का , चिंता बहुत सताती है ||

सागर में जो द्वीप बसे हैं , मालदीव टूवालू से हैं |
निगल रही उनको जलराशि , रहे छटपटा उनके वासी |
बाँध बना दीवारें चुनते , एक नहीं चल पाती है |
बढ़ता जाता ताप धरा का , चिंता बहुत सताती है ||

हिम से आच्छादित हिमवान , वही तो सरिताओं का प्राण |
सिकुड़ रही है हिम की चादर , खाली हो जायेगी गागर |
क्षीण हो रही जलधाराएं , दशा बिगडती जाती है |
बढ़ता जाता ताप धरा का , चिंता बहुत सताती है |

फसलें हों या अन्य वनस्पति , जलवायु पर हैं आधारित |
जलवायु होती परिवर्तित , कहाँ रहेंगी सभी सुरक्षित |
आज खडा दुर्भिक्ष सामने , उपजें घटती जाती हैं |
बढ़ता जाता ताप धरा का , चिंता बहुत सताती है ||

विपदा में सब जीव पड़े है , स्वभाविक वृत्ति छोड़े हैं |
कर नहीं पाते हैं अनुकूलन , आवासों से करें पलायन |
सहन नहीं कर पाते संकट , संख्या घटती जाती है |
बढ़ता जाता ताप धरा का , चिंता बहुत सताती है ||

कार्बन गैसों का उत्सर्जन , बिगड़ रहा गैसीय संतुलन |
इससे ही मौसम परिवर्तन , संकट में धरती का कण कण |
शीघ्र बचाओ पृथ्वी माँ को , देरी होती जाती है |
बढ़ता जाता ताप धरा का , चिंता बहुत सताती है ||
==============================

BADHTA JATA TAAP DHARA KA,
CHINTA BAHUT SATATI HAI.
PRALAYA JAINSI MAHAVIPATTI,
SAMMUKH AATI JATI HAI


DHARTI PAR PANI JYADA SA,
THAL KSHETRA HAI BAHUT JARA SA.
BARF BANA HAI JAMA DHRUVON PAR,
DHARTI KE DONON CHHORON PAR.
JAMNE KI GATI MAND PADI HAI,
TEZ PIGHALTI JATI HAI.

BADHTA JATA.............

ANUMANO SE TEZ DAUDTA ,
JAISE JAISE TAAP HAI BADHTA ,
HIMNAD PIGHAL PIGHAL JAL BANTA,
JAL SAGAR ME JATA CHCHANTA.
SURSA MUKH SI SAGAR LAHREIN,
DHARA NIGALTI JATI HAIN.

BADHTA JATA...........

KSHETRA MANORAM KITNE SARE ,
HARE BHARE BHARPUR KINARE,
KHET BAAG VAN AUR PAJHIARE,
GAON SHEHER BASTI GALIYARE.
SATH SABHI KE DHARTI MATA,
SAAGAR BEECH SAMATI HAI.

BADHTA JATA.........

JO SAAGAR MEIN DWEEP BASE HAIN,
MALDEEP, TUBALU SE HAIN,
DUBO RAHI UNKO JALRASHI,
RAHE CHATPATA UNKE VAASI,
BAANDH BANA DEEWAREIN CHUNTE ,
EK NAHI CHAL PATI HAI.

BADHTA JAATA..........

HIM SE AACHADIT HIMVAAN,
VAHI TO SARITAON KA PRAAN,
SIKUD RAHI HAI HIM KI CHADAR,
KHALI HO JAYEGI GAGAR,
KSHEEN HO RAHI JAL DHAARAYEN,
DASHA BIGADTI JAATI HAI.

BADHTA JAATA....

FASLEIN HO YAA ANYA VANASPATI,
JALVAYU PAR HAIN AADHARIT,
JALVAYU HOTI PARIVARTIT,
KAHAN RAHENGI SABHI SURAKSHIT,
AAJ KHADA DURBHIKSH SAAMNE,
UPJEIN GHTTI JAATI HAIN.

BADHTA JAATA...

VIPDA MEIN SAB JEEV PADE HAIN,
SWABHAVIK VRATTI CHORE HAIN,
KAR NAHI PAATEIN HAIN ANUKULAN,
AVASON SE KARIN PALAYAN,
SEHAN NAHI KAR PATE SANKAT,
SANKHYA GHATTI JAATI HAI.

BADHTA JAATA........

CARBON GASON KA UTSARJAN,
BIGAD RAHA GASIYA SANTULAN,
ISSE HI MAUSAM PARIVARTAN,
SANKAT MEIN DHARTI KA KANN KANN,
SHEEGHRA BACHAO DHARI MAA KO,
DERI HOTI JAATI HAI.

BADHTA JAATA TAAP DHARA KA,
CHINTA BAHUT SATATI HAI



 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

1 More responses

  • poemocean logo
    A.singh (Guest)
    Commented on 14-May-2016

    bahut sunder pyari aur pavan.

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017