Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

इसने छीना रेस्ट हमारा

0
02 -Oct-2021 Jyoti Kumari Examination Poem 0 Comments  406 Views
इसने छीना रेस्ट हमारा

ना वक्त इतना हैं कि सिलेबस पूरा हो ना चिराग का जिन है जो परीक्षा सफल कराये ना जाने कौन सा दर्द दिया है इस पढ़ाई ने ना रोया जाय और ना सोया जाए। जो नींद एग्जाम की रात आती हे वो नींद तो नींद की गोली खाने के बाद भी नहीं आत

सुनो जनवरी

0
08 -Jul-2021 Shailesh Kumar Examination Poem 0 Comments  721 Views
सुनो जनवरी

इम्तिहान आ गये है सुनो जनवरी ऐसे काजल लगाकर न आया करो ओढ़ लो ये धवल तुम छिपा लो गजल वो गजल भी अभी तुम न गाया करो ऐसे सावन बिछा कर न आया करो वो गजल भी हम गायेंगें हम सवर जायेंगें आपका वो धवल भी हम रंग लायेंगें हम भी फूलो

परीक्षा

0
10 -Feb-2021 N.K.M.[ LYRICIST ] Examination Poem 0 Comments  930 Views
परीक्षा

POEM :- परीक्षा POET :- N.K.M. [ +916377844869 ] परीक्षा चल कर आ रही है, घड़ी ये कैसी आ गई है, क्या करुं क्या ना करुं, परिस्थिति स्नान करा गई है, सुबह उठूं मैं देखूं आंख, सूज गई है रातों-रात, उलझा रहा मैं सवालों में, लड़कर गणित के साथ, मन नहीं क

परीक्षाएँ

1
20 -Jan-2021 Parmanand kumar Examination Poem 0 Comments  891 Views
परीक्षाएँ

परीक्षाएँ __________________By Parmanand Kumar Dated 05.05.2005 Patna. जब आती थी दसवीं तक की परीक्षाएँ तब मैं बनाता था, बहुत सारी योजनाएँ... अब जब आती है, उच्च स्तर की परीक्षा तो देने का मन नहीं करता है इच्छा ! क्योंकि अब तो प्रतिक्षण होती रहती है परीक्ष

Agali Kaksha Mein Jana Hai

0
27 -Feb-2020 Shiv Narayan Singh Examination Poem 0 Comments  690 Views
Agali Kaksha Mein Jana Hai

Ghadi parksha ki aayi, to kaisa re ghabrana hai. padhne-likhne ke bal par, agali kaksha mein jana hai. Khel-kood mein tanik na humko, ab re waqt ganwana hai. padhne-likhne ke bal par, agali kaksha mein jana hai. Waqt bada anmol, samay ko humne ab pehchana hai. padhne-likhne ke bal par, agali kaksha mein jana hai. Padhna hai bas manoyog se, humko avval aana hai. padhne-likhne ke bal par, agali kaksha mein jana hai.

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017