Latest poems on indian republic days, 26 january, gantantra diwas, swadhinta diwas

पापा का प्यार ..

0
16 -Jun-2018 Piyush Raj Fathers Day Poems 0 Comments  141 Views
पापा का प्यार ..

पापा का प्यार जिसका अंगुली थाम कर घुमा पूरा संसार कैसे भूल सकता हूँ में पापा का वह प्यार मेरी हर गलतियों पर मुझे प्यार से समझाते मुझे आगे बढ़ाने को हमेशा सही राह दिखाते मेरी हर जरुरतो को वो पूरा कराते क्या सही है क

मां पापा क्यूं नजर नहीं आते हैं......

0
16 -Jun-2018 pravin tiwari Fathers Day Poems 0 Comments  164 Views
मां पापा क्यूं नजर नहीं आते हैं......

मेरे प्यारे पापा...... सुबह जल्दी वो घर से निकलते, और रात को देर से घर आते हैं...... नज़रें मेरी उन्हें ढूंढती रहती, पर पापा नजर ही नहीं आते हैं...... ख्वाहिशें सारी मेरी पुरी हो जाती, जो मांगो हर चीज मुझे मिल जाती है...... बित जा

पिता का व्यक्तित्व

0
31 -Jan-2018 Ojaswani Sharma Fathers Day Poems 0 Comments  73 Views
पिता का व्यक्तित्व




Mere Papa Ek Adarsh

1
08 -Dec-2017 Nikita khatri Fathers Day Poems 0 Comments  205 Views
Mere Papa Ek Adarsh

Aaj mujhe kehte hue ho rha hai bada harsh Ki mere papa hain ek Adarsh Saadgi se jeewan guzarte chale aaye Apni ichaye tyagkar Sabko khushiya bante chale aaye Sagar sa vishal inka hiradya hai Aasman ko choote inke vichar Thokre hazar khai par na mani kbhi haar Shaant sa swabhav hai pyari si muskaan Karke dikhate hai jo lete wo thaan Ghmand ghrana se na hui inki pehchan Gusse se bhi aksar rehte hain anjaan Balidaan kar diye aisho aaraam Ho gae itne varsh Mjhe kehte hue ho rha hai bada harsh Ki meri papa hain ek aadarsh Usi maati k bane hain Jis m

ऊँचाईयों से आज डर लग रहा है...।।

1
ऊँचाईयों से आज डर लग रहा है...।।




Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017