Latest poems on teachers day, sikshak diwas kavita

College group (सुनहरे पल)

0
18 -Aug-2018 Sunil Singh Friendship Poems 0 Comments  286 Views
College group (सुनहरे पल)

एक बार मैंने. कहा मुड खराब है तभी. कपिल ने कहा कोई ना "मेरे पास शराब है इतना सुनते ही अक्षय बोला "कमीनो शराब है तभी तो तुम्हारी हालत खराब है" इतने मे अंशुल बोला " मेरे दिन अच्छे हैं क्योंकि मेरे पास एक नन्हा सा गुलाब ह

एक रिश्ता बड़ा ही ख़ास है.........!!

0
04 -Aug-2018 pravin tiwari Friendship Poems 0 Comments  266 Views
एक रिश्ता बड़ा ही ख़ास है.........!!

खून के रिश्तों से भी बढ़कर, एक रिश्ता बड़ा ही ख़ास है.........! दिल से जुड़ कर जो रिश्ता बने, दोस्ती उसका नाम है.........! तभी तो कृष्ण सुदामा की यारी, पुरे जग में दोस्ती की मिसाल है........! ना छल ना कपट है इसमें, केवल अर्पण का ही भाव

मेरे मनमीत

0
18 -Jun-2018 nil Friendship Poems 0 Comments  141 Views
मेरे मनमीत

मेरे मनमीत आसमान में गूंज रहे जो सचमुच में मेरे ही गीत बाग़ -बगीचे रोज बुलाते चन्दा तारे रोज सुलाते सपने आ कहते कानों में जगो पदो ओ मेरे मीत ! जब जब भी आई पुरबाई लय गति छंद नया लाई सौंप सौंप सौगात कह गई होना मत बिल्क

Khafa hai kya?

0
12 -Jun-2018 Bimal Shahi Friendship Poems 0 Comments  407 Views
Khafa hai kya?

Ab tu mujhse milta nahi hai,Khafa hai kya? Har baar main hi jhuku, tu khuda hai kya? Main aaj hi sare gile-sikwa bhula du Bas ek baar itna bata do, meri khata hai kya? Tum par bhi hoga badi jimmedariyon ka bojh Main kis haal me hoon, tujhe pata hai kya ? Jab bhi mile to tu bas khamosh hi raha Bataye bhi to nahi, tujhe hua hai kya? Tere raaz humesha mere sine me dhafan rahenge Kabhi kisi raaz se ab tak parda hata hai kya?

तुम ईमानदार नही हो

0
30 -Apr-2018 anuradha thalor Friendship Poems 0 Comments  263 Views
तुम ईमानदार नही हो

तुम ना कभी मेरे दोस्त थे ना कभी हो सकते हो क्यों की तुम ईमानदार नहीं हो | तुम वो दोस्त नहीं हो जिससे मै अपनी आजादी बयाँ कर सकती हूँ , तुम वो हो जिससे मै गहरी साँस लेकर , बहुत सोच कर बोलती हूँ | तुम वो दोस्त नहीं हो जो मेर

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017