Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Gantantra Parv pr Rakshraj hi Paya Hai

1
27 -Jan-2016 Dr. Roopchandra Shastri Mayank Republic Day Poems 0 Comments  1,843 Views
Dr. Roopchandra Shastri Mayank

Dashakon se gantantra parv pr, raag yahi duharaaya hai.
hoga bharashtachar door, bas man men yahi samaaya hai..

sisak raha janatantr hamaaraa, chalan ghoos ka jinda hai,
dekh dasha aajaadi ki, balidaani bhi sharminda hain,
raamaraaj ke sapane dekhe, raksharaaj hi paya hai.
hoga bharashtachar door, bas man men yahi samaaya hai.

ye kaisa janatantr? jahaan par jan-jan men bekaari hai,
janasevak to maja looTataa, par janata dukhiyaari hai,
aaj dalaali ki daladal men, sabane paanv fansaaya hai.
hoga bhraSTaachaar door, bas man men yahi samaaya hai.

aaj taskaron ke kabje men, nadiyon ki bhi reti hai,
hariyaali ki jagah, khet men kankariT ki kheti hai,
ann ugaane vaale, daata ko ab daas banaaya hai.
hoga bhraSTaachaar door, bas man men yahi samaaya hai.
gaanvon ki khaali dharati par, charaagaah ab nahin rahe,
bolo kaise ab swadesh men, doodh-dahi ki dhaar bahe,
apani paavan vasundhara par, kaali-kaali chhaaya hai.
hoga bharashtachar door, bas man men yahi samaaya hai.

mukh men raam bagal men chaakoo, hatya aur hataasha hai,
aasha ki ab kiraN nahin hai, chaaron or niraasha hai,
suman noch kar kaanTon se, kyon apana chaman sajaaya hai.
hoga bharashtachar door, bas man men yahi samaaya hai.

aayega vo divas kabhi to, jab sukh ka sooraj hogaa,
pank salaamat rahe taal men, paida bhi niraj hogaa,
aashaaon se abhilaaSaaon kaa, sansaar sajaaya hai.
dashakon se gantantra parv par, raag yahi duharaaya hai.
hoga bharashtachar door, bas man men yahi samaaya hai.6.

Gantantra Parv pr Rakshraj hi Paya Hai


गणतंत्र पर्व पर रक्षराज ही पाया है

दशकों से गणतन्त्र पर्व पर, राग यही दुहराया है।
होगा भ्रष्टाचार दूर, बस मन में यही समाया है।।

सिसक रहा जनतन्त्र हमारा, चलन घूस का जिन्दा है,
देख दशा आजादी की, बलिदानी भी शर्मिन्दा हैं,
रामराज के सपने देखे, रक्षराज ही पाया है।
होगा भ्रष्टाचार दूर, बस मन में यही समाया है।१।

ये कैसा जनतन्त्र? जहाँ पर जन-जन में बेकारी है,
जनसेवक तो मजा लूटता, पर जनता दुखियारी है,
आज दलाली की दलदल में, सबने पाँव फँसाया है।
होगा भ्रष्टाचार दूर, बस मन में यही समाया है।२।

आज तस्करों के कब्ज़े में, नदियों की भी रेती है,
हरियाली की जगह, खेत में कंकरीट की खेती है,
अन्न उगाने वाले, दाता को अब दास बनाया है।
होगा भ्रष्टाचार दूर, बस मन में यही समाया है।३।

गाँवों की खाली धरती पर, चरागाह अब नहीं रहे,
बोलो कैसे अब स्वदेश में, दूध-दही की धार बहे,
अपनी पावन वसुन्धरा पर, काली-काली छाया है।
होगा भ्रष्टाचार दूर, बस मन में यही समाया है।४।

मुख में राम बगल में चाकू, हत्या और हताशा है,
आशा की अब किरण नहीं है, चारों ओर निराशा है,
सुमन नोच कर काँटों से, क्यों अपना चमन सजाया है।
होगा भ्रष्टाचार दूर, बस मन में यही समाया है।५।

आयेगा वो दिवस कभी तो, जब सुख का सूरज होगा,
पंक सलामत रहे ताल में, पैदा भी नीरज होगा,
आशाओं से अभिलाषाओं का, संसार सजाया है।
दशकों से गणतन्त्र पर्व पर, राग यही दुहराया है।
होगा भ्रष्टाचार दूर, बस मन में यही समाया है।६।


   Download MP3
 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017