गोद नहीं यह गद्दी

0

God Nahi Yah Gaddi : Here is the best hindi politics poem on politician Rahul Gandhi on the occasion of filling nomination form for President of INC.

05 -Dec-2017 melodies and maladies Politics Poem 0 Comments  49 Views
melodies and maladies

राहुल चले गोद से गद्दी पर ,
अब सवार करेंगे उनके गधों ( हाँ जी करने वाले ) पर ,
गुण गाने की गुनाह उनका व्यापार ,
गोंद लगाकर बैठे वोह भ्रष्टाचार ,
महान गाँधी को करके गुमनाम ,
गन्दगी हाथ में लिए चले बनाने अपना नाम :]

धरती पर गोली खा सके वो महात्मा ,
पर यह रंगोली स्वर्ग में उनपर गगन गिराया ,
शांति की खोज में भटक निकली उनकी आत्मा ,
भारत में न जनम होना , जब न रहा कोई परछाया ,

अंग्रेजों का राज गया ही कहाँ ,
कांग्रेस की जड़ों में बस सोया यहाँ ,
आज़ादी से एलिज़ाबेथ ही बस , छूट गयी ,
शाहबज़ादी से तो देश की इज़्ज़त भी लुट गयी ,

बाबा साहेब की दिव्यदृष्टि यह गणतंत्र ,
शुक्र है देश में गूँज रहा लोकतंत्र ,
संविधान की रचना का महातंत्र ,
लोगों को मिला शक्ति का यह महा मंत्र ,

नहीं चलेगा नहीं चलेगा ,
न कोई सीधे गद्दी पर बैठ सकेगा ,
लोगों का दिल जो जीतेगा ,
वोही देश पर राज करेगा ]]



Dedicated to
RAHUL GANDHI

Dedication Summary
HIS ELEVATION IS SHAMING THE DEMOCRACY


Please Login to rate it.




How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017