Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

कनक मंजरी छंद "गोपी विरह"

0
08 -May-2019 Naman God Poems 0 Comments  154 Views
कनक मंजरी छंद

कनक मंजरी छंद "गोपी विरह" तन-मन छीन किये अति पागल, हे मधुसूदन तू सुध ले। श्रवणन गूँज रही मुरली वह, जो हम ली सुन कूँज तले।। अब तक खो उस ही धुन में हम, ढूंढ रहीं ब्रज की गलियाँ। सब कुछ जानत हो तब दर्शन, देय खिला मुरझी कलिय

इंद्र वज्रा छंद "शिव पंचश्लोकी"

0
06 -Apr-2019 Naman God Poems 0 Comments  118 Views
इंद्र वज्रा छंद

शिव पंचश्लोकी इंद्र वज्रा छंद आधारित चाहे पुकारे जिस हाल में जग शंकर महादेव हे ज्ञान राशी। पीड़ा हरे नाथ संसार की सब त्रिपुरारि भोले कैलाश वासी।। जब देव दानव सागर मथे थे निकला हलाहल विष घोर भारी। व्याकुल हुए सब

मेरे भगवान

0
25 -Mar-2019 Naren Kaushik God Poems 0 Comments  153 Views
मेरे भगवान

नमन करो उस शक्ति को जिसने जीवन निर्माण किया, पूजा करो उस मां जननी की जिसने तूमको जन्म दिया! शीश झूकाते उस शक्ति को जिसे सबने भगवान कहा भूमि है जननी प्रकृति की इसलिये सबने धरती मां कहा गगन है पालक प्रकृति का इसीलिय़

बजरंग बली का क्या कहना !!

0
10 -Mar-2019 Babulal Pareek God Poems 0 Comments  117 Views
बजरंग बली का क्या कहना !!

■ बजरंग बली का क्या कहना !! ===================== तेरे नाम अनेकों है हनुमत, दसग्रीव, कुलांतक, बागधीश ! तुम काज संवारो भगतों के और दुनिया नवाये तुझ को शीश !! दुनियां में देव हजारों है बजरंग बली का क्या कहना ! तुम ध्याओ इस महा तपसी को न

तेरे नाम है क्या क्या शिव शंकर !!

0
05 -Mar-2019 Babulal Pareek God Poems 0 Comments  135 Views
तेरे नाम है क्या क्या शिव शंकर !!

■ तेरे नाम है क्या क्या शिव शंकर !! ======================= हे गंगाधर , हे महाकाल, वृख भारूड़ ,जटाधर प्रजापति ! कवची,कठोर और उग्र हो तुम, हे औघड़दानी कृपानिधि !! ओम नमः शिवाय, ओम नमः शिवाय ! ओम नमः शिवाय, ओम नमः शिवाय !! तुम बाम देव ,शशि शेखर

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017