ओ मैंया मोरी, मैं दौड़ा चला आया.......

0
28 -Sep-2017 pravin tiwari God Poems 0 Comments  62 Views
ओ मैंया मोरी, मैं दौड़ा चला आया.......

भजन ओ मैंया मोरी, मैं दौड़ा चला आया....... गुंज तेरी पायल की सुनके, मैं दौड़ा चला आया ओ मैंया मोरी, मैं दौड़ा चला आया....... पल पल तेरी राह निहारी आँखीयों ने नीर बहाया..... ओ मैंया मोरी, मैं दौड़ा चला आया...... राहों में तेरी फूल बि

माँ से मेरी मुलाकात हो गई......!

0
27 -Sep-2017 pravin tiwari God Poems 0 Comments  108 Views
माँ से मेरी मुलाकात हो गई......!

आज की सुबह मेरी गुलजार हो गई, कल रात माँ से मेरी मुलाकात हो गई, जब शेर पर सवार हो के माँ आई मेरे द्धारा, बिन दिपक जले ही कुटिया मेरी रोशन हो गई, मन हर्षाया आँखों मे खुशियों के आँसू भर आए, मानो जैसे बरसों की दुआ मेरी आज प

दीप

0
27 -Sep-2017 Anju Goyal God Poems 0 Comments  72 Views
दीप

    ____दीप ______ स्वयं जलकर प्रकाशित करूँ धैर्य  का भूषण धारण करूँ । कहाँ ऋतुओ से भयभीत हूँ हौसले का अटल  मीत   हूँ । न रोके आधियाँ तूफां कभी जगजीवन सभी प्रज्वलित करूँ । पगडंडी है  कठिन  अवश्य पर आशाओ के पंख धरूँ । कल कल न

कल रात स्वप्न में प्रभु से भेंट हुई

0
25 -Sep-2017 Anju Goyal God Poems 0 Comments  56 Views
कल रात स्वप्न में प्रभु से भेंट हुई

कल रात स्वप्न में प्रभु से भेंट हुई  बोले  वत्स! क्या मनोकामना तेरी   सकपका उठ हाथ जोड़कर  बोला  प्रभु तेरे चरणों में अर्पित भक्ति मेरी । प्रभु ! कैसे तेरी भक्ति में ध्यान लगाऊँ कैसे कृपा पाके भवसागर से तैर जाऊँ  म

भगवान का आहवान....

0
24 -Sep-2017 Aakash Parmar God Poems 0 Comments  74 Views
भगवान का आहवान....

तू कहता है कि मैं अहसास हूं, मुझे मन से पूजा जाता है, क्यू झूठ बोलता है तू ? पत्थर के आगे सर झुका कर, तू ख्याविशें हजार बता जाता है, इंसान होने के बाद भी तुझे, एक मासूम मेरे दर से भूखा चला जाता है, मैं भोजन बनके उसकी भूख त

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017