Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

उसे देखा है सुबह उठते हुए.....!!!!

0
15 -Dec-2019 pravin tiwari Good Morning Poem 0 Comments  257 Views
उसे देखा है सुबह उठते हुए.....!!!!

उसे देखा है सुबह उठते हुए.... अंगड़ाई लेकर आंखें मलते हुए.... बिखरी जुल्फों को, संवारने लगती है, छत पर कुछ, गुनगुनाते हुए.... मैं बेसुध सा उसे, देखता रहता हूं, इसकी मासूम सी, अदा को बिखरते हुए.... धड़कनें तब और भी, तेज हो जाती

सुबह बड़ी अच्छी लगती हैं.......

0
04 -Nov-2019 pravin tiwari Good Morning Poem 0 Comments  320 Views
सुबह बड़ी अच्छी लगती हैं.......

अखबार की सुर्खियां, और चाय की चुस्कियां.... सुबह बड़ी अच्छी लगती हैं..... गुनगुनाते भंवरे और रंग-बिरंगी उड़ती तितलियां...... सुबह बड़ी अच्छी लगती हैं..... हरी भरी पत्तियों, और फूलों पे जमी ओस की बूंदें..... सुबह बड़ी अच्छी लगत

सुबह की नर्म धूप में.....!!!

0
28 -Jan-2019 pravin tiwari Good Morning Poem 0 Comments  764 Views
सुबह की नर्म धूप में.....!!!

सुबह की नर्म धूप में, मन यही कहता है.! कहीं से आ जाए वो, जिसका इंतजार हमें रहता है.! बातें हो प्यार भरी, और थोड़ी सी शरारत हो.! जिंदगी की उलझनों में, थोड़ी सी तो राहत हो.! बैठे हों हम साथ साथ, और कहे वो आज कितनी सर्दी है.! चाय

Subah Savere

0
25 -Jan-2019 Kirti Srivastav Good Morning Poem 0 Comments  974 Views
Subah Savere

Subah-savere chidiya boli, dhoop ne dekho kheli holi, aakhein kholo, munh ko dho lo, fir bhar lo sapnon ki jholi. Murge ne kukadoo-koo suna di, koyal ne bhi kook laga di. dharti sone si chamak rahi. phoolon ne khooshboo bikhara di. Panchhi ho tum neel gagan ke, phool bhi ho tum apne chaman ke. jaao ab khushboo bikhraao, jaldi se shaala ho aao.

आजा री ओ निंदिया रानी (लोरी)

0
09 -Jan-2019 Suresh Chandra Sarwahara Good Morning Poem 0 Comments  453 Views
आजा री ओ निंदिया रानी (लोरी)

लौरी -------- आजा री ओ निंदिया रानी मेरी गुड़िया सुला सुला जा। आज बहुत रोई है गुड़िया मम्मी इसकी गई पढ़ाने, घर की मजबूरी के आगे समय और को भेंट चढ़ाने। मेरी गुड़िया भोली भाली इसकी पीड़ा भुला भुला जा। आ जा री ओ निंदिया रा

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017