Maa ki lori...!!

0
11 -Sep-2016 pravin tiwari Good Night Poems 0 Comments  330 Views
Maa ki lori...!!

आजा तेरी पलकों में मैं ख्वाब सजाऊँ...!! तू सोजा मेरे लाल मैं तुझे लोरी सुनाऊँ...!! नींदीया रानी को मैं तेरे पास बुलाऊँ...! मीठे सपनों की दुनिया में तुझे ले चलूँ ...!! जहां होगी सितारों से भरी रोशनी...! परीओं के उस जहाँ मे तुझे

Nidiya

0
16 -Jun-2016 Dr. A.D. Khatri Good Night Poems 0 Comments  220 Views
Nidiya

निंदिया रानी, जरा चुपके से आना, निंदिया रानी, निंदिया रानी, अंखियन में समाना, निंदिया रानी. प्यारा हमारा है सोने को आया, किए बंद अँखियाँ तुम्हें है बुलाया, निंदिया रानी. प्यारी सी निंदिया में उसको सुलाना, चंदा-सिता

Ratri Bela

0
01 -Feb-2016 Anupama Gupta Kesharwani Good Night Poems 0 Comments  344 Views
Ratri Bela

उत्तर में ध्रुव तारा चमका रूप-दर्प से चंदा दमका सातों ऋषि अम्बर पर छाए दूर कहीं पर बेला गमका। शिशु का क्रन्दन हुआ कहीं पर ईश्वर वंदन हुआ महीं पर रात्रि-राग किसी ने छेड़ा शान्ति-सत्ता छाई कहीं पर। रजनीचर मुस्काए कह

Mere Khwabon Mein

0
19 -Oct-2015 Anju Verma Nisha Good Night Poems 0 Comments  857 Views
Mere Khwabon Mein




Shubh-Ratri

0
27 -Apr-2015 omprakash chorma Good Night Poems 0 Comments  4,898 Views
Shubh-Ratri

पंछी घोसलों में लौट आये है, पशु अपने आशियानों में लौट आये है। जन-जीव सारे थक गये है, सब अपने घरोंदों में लौट आये है। सूरज ने समेट ली है अपनी किरणें, चांद-तारे वापस लौट आये है। कहीं अंधेरे है,कहीं रोशनी है बिजली की दी

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017