Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

मीठा गीत है लोरी

0
17 -Dec-2018 nil Good Night Poems 0 Comments  310 Views
मीठा गीत है लोरी

मीठा गीत है लोरी लेट गईमैं पलने में मम्मी मुझे सुना दे लोरी सुनते ही कानों में गूंजें /मीठे मीठे गीत आ जाते हैं चुपके चुपके /बन जातें हैं मीत जब मैं सुनती लगते मुझको आते हैं बो चोरी चोरी जैसे ही मम्मी तुम गाती /लगता

पलने में आनंद नवीनतम संग्रह से एक लोरी लैया पैया

0
13 -Oct-2018 nil Good Night Poems 0 Comments  254 Views
पलने में आनंद नवीनतम संग्रह से एक लोरी लैया पैया

पलने में आनंद नवीनतम संग्रह से एक लोरी लैया पैया लोरी सुन सुन आती/निंदिया लैंया पैयां स्वप्न लोक की परियां /थामें उसकी बहियाँ चलती पैयां पैयां /मम्मी लेय बलैयां ज्यों ही लेती मुनियाँ /आई उस्क्लो निंदिया लगी देख

निंदिया (लौरी) / Lullaby

0
27 -Sep-2018 Suresh Chandra Sarwahara Good Night Poems 0 Comments  285 Views
निंदिया (लौरी) / Lullaby

आजा री ओ निंदिया रानी मेरी बिटिया सुला सुला जा ! देख पालने में सोई है मेरी बिटिया प्यारी, यह मेरी आँखों की पुतली घर की राजदुलारी। कहीं बीच यह जग ना जाए आ धीरे - से झुला झुला जा। यह आँगन की पावन तुलसी केसर की है क्यारी,

मुझे सपनों में जीने की अब आदत हो गई...!!

0
22 -Mar-2018 pravin tiwari Good Night Poems 0 Comments  785 Views
मुझे सपनों में जीने की अब आदत हो गई...!!

चरागों की लौं जब बुझने लगी, नूर-ए-चांद से ये रात रोशन हुई......! रात और भी हसीन लगने लगी, जब जुगनू ओ की लड़ी बन गई......! जमी पर सितारों ने रखें कदम, नींद से आंखें जब बोझिल हुई......! बंद पलकों में ख्वाब आने लगे, नींद में लबों पे मु

पलकों के हसीन ख्वाब लिए आई है रात सुहानी....!!

1
18 -Feb-2018 pravin tiwari Good Night Poems 0 Comments  723 Views
पलकों के हसीन ख्वाब लिए आई है रात सुहानी....!!

पलकों के हसीन ख्वाब लिए, आई है रात सुहानी.... सितारों से भरे आसमान में, चांद निकलने की है तैयारी..... रात रानी के फूलों से, महक उठी फिज़ा ये सारी..... जुगनू ओ ने अपनी रोशनी से, रात्रि की सोभा ओर बढ़ाई.... दादी भी सुना रही बच्चो

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017