Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

मज़दूर

0
18 -Apr-2021 सिफ़र Hard Work Poems 0 Comments  275 Views
मज़दूर

देखिये कोई यहाँ, थका, पसीने में चूर है , ख़िदमत को हाज़िर दुनिया ये मज़दूर है , जिसके करम पे चले है चाक जमाने का , भूखा है ये, उस ही के मुँह से रोटी दूर है , कभी अपना पसीना वापस वो मांग बैठा , समंदर भी सुख जायेगें, किसको गुरूर

Mehanat se na ghabrana

0
24 -Aug-2019 Kirti Srivastav Hard Work Poems 0 Comments  659 Views
Mehanat se na ghabrana

Mehanat se na ghabrana, achchhe kaam karte jana. mehnat ka fal hota meetha, prem se isako chakhte jana. Kaante mile jo rahon mein, tum inse na darr jana. manjil par pahunchna ho to, har mushkil se lad jana. Log lagayenge pahare kai, tum dushman ko maat de jana. andhera bhi jhook jayega, tum rahon par badhte jana.

नया सवेरा

1
31 -Jul-2019 Divya Raj kumar Hard Work Poems 1 Comments  840 Views
नया सवेरा

वक्त वक्त का घाव यह ऐसे न मुरझाएगा उत्पन्न उस पीड़ से मन कच्चोटता रह जाएगा कदम कदम फूंक कर अंगारों पर रखा जाएगा हर पड़ाव पर खुद को सशक्त निखारा जाएगा बुलंदियों को छूने के लिए आसमां कम पड़ जाएगा जब जब हौसलों का हाथ था

मेहनत सफलता की कुंजी

0
03 -Nov-2018 अशोक कुमार ढोरिया Hard Work Poems 0 Comments  2,654 Views
मेहनत सफलता की कुंजी

एक किसान था बहुत बूढा लेकर बैठा था वो मूढा। पुत्र थे उसके अपने चार थे सब के सब बेरोजगार। आपस में लड़ते थे भाई करते नहीं थे वे समाई। किसान ने नसीहत लगाई कुछ काम करो मेरे भाई। बेटों को बात समझ आई तभी उन्होंने फाली उठा

भारत का किसान

0
10 -Mar-2018 RAM PRAKASH BAIRAD KHERAJGARH JATI BHANDU Hard Work Poems 0 Comments  1,700 Views
भारत का किसान

ना सर्दी की, ना गर्मी की, ना बरसात की परवाह भारत का किसान करता हैं ! यह तो बस एक ही मेहनत की लगन पर हो सवार, खेतों में डटा रहता हैं ! बोता हैं बीज आशा कें, फसल उगनें से लहरानें तक लगा देता अपनी जान हैं ! देश की आन, बान, शान य

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017