Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

मोहब्बत का रंग

0
09 -Mar-2020 Kavya Shekhr Holi Poems 0 Comments  636 Views
मोहब्बत का रंग

नफ़रत को घोलो दोस्ती और प्यार के रंग में, ऐसे तुम मनाना होली, तन से रंग भले ही उतरे, मन से अच्छाई का रंग ना तुम उतरने देना, ऐसे तुम मनाना होली । भेद - भाव ना रहे दरमिया , ना मजहब की हो दीवार ,ऐसे तुम मनाना होली । दिल ना कि

Sabka Pyara Tyohar Hai Holi

0
27 -Feb-2020 Sunil Kumar Sharma Holi Poems 0 Comments  329 Views
Sabka Pyara Tyohar Hai Holi

Holi aai, Holi aai, le ke satrangi rang, Ramu, Shyamu, Sheela aao, chalo karein huddang. Aao hil-mil holi khelein. aalingan kar vair ko bhoolein, khushiyon ki ladiyan bikhrakar, chaaye nai tarang. Sabka Pyara Tyohar Hai Holi, Rangon ki bauchhar hai holi, masti ke rangon mein ghulkar, jaage nai umang.

नवोदय की होली

0
09 -Nov-2019 PANKAJ CHOUREY Holi Poems 0 Comments  522 Views
नवोदय की होली

अब जब होली आती है ,तो उसका मतलब बस छुट्टी है ! होली जैसी होली तो बस नवोदय में ही मनती है । होलिका दहन के वक्त भी कितना चेहका करते थे , थाली बजा बजा कर जयकारे पूरे हॉस्टल में गुंजा करते थे

होली का त्योंहार / Holi ka Tyohar

0
22 -Mar-2019 mannu bhai Holi Poems 0 Comments  588 Views
होली का त्योंहार / Holi ka Tyohar

*होली का त्योंहार* होली का है यह खेल निराला। खेल रहा है हर नर और बाला। सबने खुद को प्रेम रंग में ढाला। त्योंहार मना रहे है रंगों वाला। आओ सब साली और साला। पीके सब भांग का एक प्याला। लगा कर के रंग कोई आला। सब को बनाये

होली है.../ Holi Hai

0
22 -Mar-2019 Deepak Holi Poems 0 Comments  545 Views
होली है.../ Holi Hai

रंगों को आज नवजीवन मिला, जब उनका पानी से मिलन हुआ, पुलकित है अंदर ही अंदर उनका मन, अगाध स्नेह सह प्रेम जब से हुआ... प्रलाप करते दोनों मिल आज, हम दोनों के बीच ये कैसा राज ? तुम रंगहीन और मैं भी सुखी हूँ, मिलने से सभी के चेह

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017