Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

सोचा था होली तेरे साथ मनायेंगे

0
18 -Mar-2022 Megha Raghuwanshi Holi Poems 0 Comments  139 Views
सोचा था होली तेरे साथ मनायेंगे

सोचा था होली साथ तेरे मनायेगे सात जनम ना सही कुछ पल तो खुशी के तेरे साथ बितायेगे। मैं सबको भूल जाना चाहती थी तेरी कुछ पल की यादों से पर अब लग रहा है मैं तुझे ही भूलती जा रही हूं। कभी इंतजार रहता था तेरे वो एक इशारे क

होली का त्यौहार।

0
16 -Mar-2022 सुमित.शीतल Holi Poems 0 Comments  141 Views
होली का त्यौहार।

शीर्षक : होली का त्यौहार। होली हिन्दूओं का वह पर्व त्यौहार है, रंगबिरंगे रंगों के लिए जाना जाता है। राजा हिरण्यकश्यप नास्तिक का पुत्र, प्रहलाद विष्णु जी का परम भक्त था। होली पर रगों से तो खेला जाता सदा, चारों ओर र

होली आती है बार-बार

0
16 -Mar-2022 Buddha Prakash Holi Poems 0 Comments  136 Views
होली आती है बार-बार

होली आती है बार-बार, मनाई जाती है हर साल, खेलते हैं सभी रंग गुलाल, मनपसंद रंगों को लेकर, कई रंगों में रंग जाते हैं इंसान, लाल हरा नीला पीला गुलाबी, कर देते हैं रंग-बिरंगा संसार , तरह-तरह के पुष्प खिले हैं, जहांँ बिखरा प

होली और आपदा

0
11 -Mar-2022 ASHOK KUMAR Sharma Holi Poems 0 Comments  248 Views
होली और आपदा

होली के रंग फीके पड़े ,फीकी पड़ी दिवाली चाइना के एक वायरस ने, मचा दी ऐसी महामारी पोलियो से तो निपट गया था ,अब कोरोना की थी बारी सारे दुनिया के साइंटिस्ट लगे थे, कैसे करें तैयारी पर्यावरण से यदि तुम , करोगे ऐसे गद्दार

मैं एक सीधी सी, भोली सी लड़की हूं

0
09 -Mar-2022 Megha Raghuwanshi Holi Poems 0 Comments  191 Views
मैं एक सीधी सी, भोली सी लड़की हूं

मैं एक सीधी सी, भोली सी लड़की हूं ये दुनियादारी मुझे समझ नहीं आ पाती अगर व्यवहार अच्छा है मेरा, तो सबके साथ अच्छा रहेगा किसी को कम, किसी को ज्यादा मान देने की बात मुझे समझ नहीं आ पाती जो अगर साथ हैं कोई, तो पूरे मन से

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017