.Holi Aa Gayi

0
06 -Apr-2017 Gafoor Snehi Holi Poems 0 Comments  373 Views
.Holi Aa Gayi

Sardi ki ritu gayi, to samjho holi aa gayi. yah basanti mausam hai, khushiyan layi nayi nayi. Holi to bas holi hai, kaisi rang rangoli hai. hasya vyang se bhari huyi, sabki baani boli hai. beechon beechon pariksha hai, puri shiksha diksha hai. mehnat karta padhta jo, phal uttam shiksha hai. Fir April aur Mayi, sardi ki ritu gayi.

Ho li so ho li

0
06 -Apr-2017 Kishor 'Swarn' Holi Poems 0 Comments  193 Views
Ho li so ho li

Ho li so ho li, ab to bolo pyar ki boli. pyar se sab apne bante, pyar hi sikhati hai holi. Pyar hi sikhati holi, ab sabse ho pyar hi pyar. dil mein ho prem-pyar, na ho kisi se bhi takraar. Rang pyar ke barsaaye hum, 'Swarn' sajaye hum rangoli. ab to bolo pyar ki boli, ho li so ho li.

पी के भंग का प्याला

0
13 -Mar-2017 Mahesh Nagar Holi Poems 0 Comments  265 Views
पी के भंग का प्याला

पी के भंग का प्याला हो गया मैं मतवाला, जग घूमता है सारा हो गया मैं मतवाला, रंग लाल हो या पीला बसंती या फिर काला, मुझको तो दिखता है सब नीला नीला क्या होगा क्या होगा रे भोला, रंग ऐसा जमा चका चक समझ न आए चेहरा मैं तु हूँ या

फागुन आया

0
12 -Mar-2017 Jyoti Holi Poems 0 Comments  320 Views
फागुन आया

रंग - बिरंगे रंगों से सज गयी दुकाने है मौसम भी हो गया गुलाबी है फागुन आया - फागुन आया होली का त्यौहार साथ में लाया भर - भर पिचकारी रंग डाले बच्चे खेले देवर भाभी संग जीजा खेले साली संग सजनी खेले साजन संग हुड़दगो की टो

होली के अलबेले रंग। HOLI KE ALBELE RANG.

0
11 -Mar-2017 satya saroj Holi Poems 1 Comments  452 Views
होली के अलबेले रंग। HOLI KE ALBELE RANG.

होली के अलबेले रंग **************** आई होली लाई होली, अपने संग लाखों उमंग, दिलों में भरने ले कर आई, अपने संग सतरंगी रंग। मिलजुल कर हम खेलें होली, बच्चे, युवा, बूढ़े सब संग मस्ती में खो जाए हम सब, बाजे ढ़ोल और मृदंग। अपनों की तो ब

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017