Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

दिखावा नहीं कर सकती मैं किसी चीज का

0
06 -Mar-2022 Megha Raghuwanshi Holi Poems 0 Comments  51 Views
दिखावा नहीं कर सकती मैं किसी चीज का

दिखावा नहीं कर सकती मैं किसी चीज का अगर प्यार तो प्यार, नफरत तो नफरत का इजहार अपने आप हो जाता है अगर प्यार तो इजहार की हिम्मत भी रखती हूं अगर नफरत है तो वो मेरी नफरत भी छिपी नहीं रह सकती दुनिया की तरह दो चेहरे मैं नह

रस भरी तेरे अंग-अंग मद भरे

0
26 -Mar-2021 Keshav Holi Poems 0 Comments  716 Views
रस भरी तेरे अंग-अंग मद भरे

रसभरी तेरे अंग-अंग मद भरे, पिया मोहे प्रीति में भीगो रंग ले। रंग मोहे लाल-लाल रंग भरो गुलाल, मोहे फागुन की फुहार रंग ले।। आया फागुन रे होवे मतवाला जिया, रंग रंगो कमाल, रंग रंगो गुलाल। भरो रे अंग-अंग तेरे रस जालीमवा ,

मनहरण घनाक्षरी "होली के रंग"

0
25 -Mar-2021 Naman Holi Poems 0 Comments  520 Views
मनहरण घनाक्षरी

मनहरण घनाक्षरी "होली के रंग" (1) होली की मची है धूम, रहे होलियार झूम, मस्त है मलंग जैसे, डफली बजात है। हाथ उठा आँख मींच, जोगिया की तान खींच, मुख से अजीब कोई, स्वाँग को बनात है। रंगों में हैं सराबोर, हुड़दंग पुरजोर, शिव के ग

होली का संदेश (आई होली)

0
20 -Mar-2021 Pavan raj kushwaha Holi Poems 0 Comments  607 Views
होली का संदेश (आई होली)

होली आई होली आई, प्यार भरे रंगो का त्यौहार लाई । होली आई होली, सबके रंगहीन हृदय मे भरने रंग लाई।। परिवार को एक साथ मिलवाने आई होली, भाई भाई को गले लगवाने आई होली, पुराने नोक-झोंक मिटाने आई होली, सबसे मन मुटाओ मिटाने

मोहब्बत का रंग

0
09 -Mar-2020 Kavya Shekhr Holi Poems 0 Comments  1,138 Views
मोहब्बत का रंग

नफ़रत को घोलो दोस्ती और प्यार के रंग में, ऐसे तुम मनाना होली, तन से रंग भले ही उतरे, मन से अच्छाई का रंग ना तुम उतरने देना, ऐसे तुम मनाना होली । भेद - भाव ना रहे दरमिया , ना मजहब की हो दीवार ,ऐसे तुम मनाना होली । दिल ना कि

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017