Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Kranti Ki Zaroorat

5
24 -Jan-2016 Ramchand Azad Republic Day Poems 0 Comments  9,246 Views
Kranti Ki Zaroorat

Ek kranti to pahale hui thi goron ko maar bhagaane ki.
ek kranti ki aaj zaroorat jangan man ko jagaane ki ..

Chale gaye angrej magar angrejipan ko chhoa=d gaye.
shasan prashasan mein apne putale vanshaj chhod gaye.
waisi bhasha waisi vani khaanapaan bhi vaisa hai .
lootapaat ka vahi tarika akad firangi jaisa hai ..

Inko koi kuchh kah de to aadat inki gurraane ki.
ek kranti ki aaj zaroorat jangan man ko jagaane ki..

Roj shaheed hua karte hain sainik simaaon par,
fir bhi Dilli kyon chup dikhati aisi ghatnaon par?
bas kewal do char diwas afsos jataya jaata hai.
unaki veer kathaon ka gungaan sunaya jata hai ..

Bhashan- bhushan dauda- daudi janta ko bas dikhalane ki .
ek kranti ki aaj zaroorat jangan man ko jagaane ki..

Aaj tirnga jaane kyon mayoos dikhai padta hai?
rashtragaan mein shaurya nahin ab shor sunai padta hai .
loktantra ki arthi uthati magar kise parwaah hai.
apni kursi rahe salamat nahin aur kuchh chaah hai..

Roj- roj waade karte janta ko fir se fuslane ki.
ek kranti ki aaj zaroorat jangan man ko jagaane ki ..

Bhrashtachar aur anachar se dhara ho gai hai bojhil.
prem aur sauhardr se sukhe sabhya janon ke dikhte dil.
izzatt be-izzat hone mein koi samay nahin lagta hai .
apradhi sina tane ab kanoon ko gaali deta hai..

Kya yahi tha Bharat ka sapna jis par mar mit jane ki ?
ek kranti ki aaj zaroorat jangan man ko jagaane ki..



क्रांति की ज़रुरत

एक क्रांति तो पहले हुई थी गोरों को मार भगाने की |
एक क्रांति की आज जरुरत जनगण मन को जगाने की ||

चले गए अँग्रेज मगर अंग्रेजीपन को छोड़ गए |
शासन प्रशासन में अपने पुतले वंशज छोड़ गए |
वैसी भाषा वैसी बानी खानपान भी वैसा है |
लूटपाट का वही तरीका अकड़ फिरंगी जैसा है ||

इनको कोई कुछ कह दे तो आदत इनकी गुर्राने की |
एक क्रांति की आज जरुरत जनगण मन को जगाने की ||

रोज शहीद हुआ करते हैं सैनिक सीमाओं पर ,
फिर भी दिल्ली क्यों चुप दिखती ऐसी घटनाओं पर ?
बस केवल दो चार दिवस अफ़सोस जताया जाता है |
उनकी वीर कथाओं का गुणगान सुनाया जाता है ||

भाषण- भूषण दौड़ा- दौड़ी जनता को बस दिखलाने की |
एक क्रांति की आज जरुरत जनगण मन को जगाने की ||

आज तिरंगा जाने क्यों मायूस दिखाई पड़ता है ?
राष्ट्रगान में शौर्य नहीं अब शोर सुनाई पड़ता है |
लोकतंत्र की अरथी उठती मगर किसे परवाह है |
अपनी कुरसी रहे सलामत नहीं और कुछ चाह है ||

रोज- रोज वादे करते जनता को फिर से फुसलाने की |
एक क्रांति की आज जरुरत जनगण मन को जगाने की ||

भ्र्ष्टाचार और अनाचार से धरा हो गई है बोझिल |
प्रेम और सौहार्द्र से सूखे सभ्य जनों के दिखते दिल |
इज्ज़त बे-इज्ज़त होने में कोई समय नहीं लगता है |
अपराधी सीना ताने अब कानून को गाली देता है ||

क्या यही था भारत का सपना जिस पर मर मिटजाने की ?
एक क्रांति की आज जरुरत जनगण मन को जगाने की ||


 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017