वियोग

0
24 -Sep-2017 Anju Goyal Krishna Janmashtami Poems 0 Comments  74 Views
वियोग

कान्हा तेरे वियोग में  हम तो अँसूवन बहाते है।  पनघट तट पे बाट निहारे राह तुम्हारी जोहते है।    पनघट सूना सूनी गलियाँ  चैन हमारा खोवत है   । सावन बीता झूले सूने  मधुवन भी अब रोवत है मुख पे छाई हमरे उदासी मनवा स्वप्न  

गोविंद सहारा तेरा है

0
10 -Aug-2017 निशंक Krishna Janmashtami Poems 5 Comments  466 Views
गोविंद सहारा तेरा है

श्री कृष्ण सहारा है गोविंद सहारा तेरा है ये जग दो दिन का मेला है दुनिया बस रैन बसेरा है तेरे बिन मेरी हस्ती क्या बिन तेरे जीवन बस्ती क्या दिल मे बस तेरा डेरा है बिन तेरे घोर अंधेरा है तू मेरा है दिल तेरा है .....गोविंद

Dropadi Pukare, Ab aao Dwarika Pyare

0
21 -Dec-2016 Lok Kavi Ram Charan Gupt Krishna Janmashtami Poems 0 Comments  558 Views
Dropadi Pukare, Ab aao Dwarika Pyare

Dropadi ho dukhit pukare, ab aao Dwarika pyare.. kesh pakad Duhshahasan swami beech sabha mein laya mokoon rahyau ughari, man mein tanik nahin sharmaya Pandav sab himmat hare, ab lajja hath tumhare. honi ke chakkar mein fansi ke hoy aaj anhoni Bhishm Dronacharya Vidhur ne sadh rakhi hai mauni baithe sab gardan daare, in mukh lag gaye taare. Dropadi ho dukhit pukare, ab aao Dwarika pyare.. Shakuni aur Karan-Duryodhan hansi hansi pitat taari natmastak hokar baithe hain Arjun se baldhari mani bin vishiyar kaare, vivash bhoomi fan maare. Dropadi ho

जब से हुआ है तुमसे प्यार ओ कन्हैया

0
25 -Aug-2016 anupam choubey Krishna Janmashtami Poems 0 Comments  639 Views
जब से हुआ है तुमसे प्यार ओ कन्हैया

जबसे हुआ है तुमसे प्यार ओ कन्हैया तब से कठिन भई हमरी उमरिया कितने जतन करु तुमसे मिलन के खातिर लगत है जैसी सूनी हमरी डगरिया जबसे हुआ है तुमसे प्यार ओ कन्हैया. सुनो राधा तुम हो हमरी नजरिया तुम्ही को सोचूं मैं सुबह श

लौट आओ कान्हा

1
25 -Aug-2016 Gianchandsharma Krishna Janmashtami Poems 1 Comments  751 Views
लौट आओ कान्हा

लौट आओ कान्हा --------–------------ लौट आओ कान्हा उठा लो गोवर्धन सृष्टि डूबी जाती है! गली कूचों में चीरहरण असहाय पांचाली रक्षा के लिए चिलाती है! कितने ही दुर्योधन धरा पर मदमाते हैं पांच गांव की मांग पांडव आज भी दोहराते हैं ! क

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017