Latest poems on teachers day, sikshak diwas kavita

गतिमय जीवन

0
05 -Dec-2018 Suresh Chandra Sarwahara Life Poem 0 Comments  52 Views
गतिमय जीवन

गतिमय जीवन ------------------- चलने का है नाम जिन्दगी चलते रहें निरंतर, घेर निराशा उनको लेती बैठ गए जो थककर। कई बार नन्ही चिड़िया के बिखरे आँधी से घर, पर न नीड़ के निर्माणों को रोक सका कोई डर। नदियों की राहों में आती पग - पग बाध

दृष्टि

0
17 -Nov-2018 Abbas Bohari Life Poem 0 Comments  164 Views
दृष्टि

क़ुदरत की अनमोल देंन, हर शै के दो नैन माँ निहार अपने लख़्तेजिगर, पा लेती चैन हर अंग का निराला अस्तित्व नैन निख़ारे अनोख़ा व्यक्तित्व तुझे देख़ने की तड़पमें, ज़ाया किया वक़्त पूज़ता रहा हैवानो इंसा, पत्थर ओ दरख़्त मस्ज़िद की

आरोह अवरोह

0
आरोह अवरोह

हम सभी के जीवन में कुछ क्षण ऐसे आते हैं,जब हमें यह महसूस होता है कि हमारा जीवन व्यर्थ हो गया,हमारी एक छोटी-सी ग़लती हामारी/आपकी कमाई हुई सारी प्रतिष्ठा, मान-सम्मान सभी मिट्टी में मिला देती है। मन में एक साथ कई तरह के

Shukriya

0
28 -Oct-2018 poet harsh Life Poem 0 Comments  82 Views
Shukriya

Story in brief... My poem Shukriya meaning thanks is all about a girl who left a boy who loved him like anything but besides that the boys thank him to rher help in realising that how she made him somethin unknowingly he reached such great height and enjoy a lively life just because he loved that girl... In simple world girl after rejecting the boy, nothing to him .. Bt she was his life for him.. Hope u enjoy... Shukriya Tujhe bhulun kaise ye smjh na aaye... Teri yaden hamesha is dil ko tadpayen... Tera mushkurana jo ye yaad aaya.. Mai kuch aau

जीवन एक पहेली

0
19 -Oct-2018 Naren Kaushik Life Poem 0 Comments  188 Views
जीवन एक पहेली

दुनिया भुल भुलैया है, और जिंदगी एक पहेली हैं। दे हिसाब, कितने इसमें अपने बनते कितने हुए पराये है। दुनिया भुल भुलैया है, और जिंदगी एक पहेली हैं।२ सपनों की इस दुनिया में कोई ना होता अपना है किसकी खातिर तु मरता है यहा

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017