Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

जीवन का शाश्वत सत्य

0
31 -Aug-2020 Prabhat Pandey Life Poem 0 Comments  330 Views
जीवन का शाश्वत सत्य

हम सबने मानव जीवन पाया कुछ अच्छा कर दिखलाने को सब धर्म एक है ,एक ही शिक्षा फिर हम सब हैं इतने बेगाने क्यों जो दूसरों का है दुःख समझते दुःख रहता उनके पास नहीं औरों को हंसाने वाले रहते कभी उदास नहीं आचरण हमारा ही हम स

मेरे ख़ुदा तू कभी भी न बदलना।

0
18 -Aug-2020 Dr. Swati Gupta Life Poem 0 Comments  40 Views
मेरे ख़ुदा तू कभी भी न बदलना।

नज्म-मेरे ख़ुदा तू कभी भी न बदलना। दिल की बात दिल में ही रखना, चाहें पड़े घुट घुट के मरना। बात आ गयी जुबां पर अगर, बिन वजह लोगों की सुनना। यूँ तो मौलिक अधिकार है सबका, भावनाएं अपनी व्यक्त करना। न जानें क्यूँ लोग लगाते

Life

0
17 -Aug-2020 Anu Agrawal Life Poem 0 Comments  152 Views
Life

Life’ll hit you in hundreds of ways, There would be nothing do and nothing to say, At that moment my friend! Hold your heart and close your eyes, Embrace yourself and set the limit to the sky, Nobody is mean to be perfect my dear! So give the shit back to the world, And try! try! try!

जीवन

0
14 -Aug-2020 Anand kumar (Manish) Life Poem 0 Comments  384 Views
जीवन

सर्वप्रथम मां सरस्वती का करता हूं मैं सुमिरन चंद पंक्तियों में जीवन को करता हूं मैं वर्णन शिशु अवस्था में मां की आंचल तले विश्राम किया कभी हंसा कभी रोया मां को खूब परेशान किया बाल्यवस्था आते आते तूने चलना सीख ल

तू और मैं

1
01 -Aug-2020 © विक्रम Life Poem 1 Comments  435 Views
तू और मैं

रंज - ए - गम, बेखुदी और ये बेताबिया कैसे करूं बयां मै तेरी कहानियां तू गंगा के पावन जल सी है मैं तुझमें तैरती नाव सा तू रहती है चंद्रमा सी शीतल सदा मै तो हूं एक जलते अलाव सा तू है महक फूलों की मैं मतवाले भेाैरें की चाल

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017